सातवाँ वेतन आयोग – केंद्रीय कर्मचारियों को ड्रेस अलाउंस में मिलती है कितनी रकम, जानिए सब कुछ

| March 19, 2020

7वें वेतन आयोग के तहत सरकार ने पहले से मिल रहे कई तरह के भत्तों का विलय ड्रेस अलाउंस में कर दिया था।

7वें वेतन आयोग के तहत सरकार ने पहले से मिल रहे कई तरह के भत्तों का विलय ड्रेस अलाउंस में कर दिया था। क्लॉथिंग अलाउंस, किट मेंटनेंस अलाउंस, शू अलाउंस, यूनिफॉर्म और व़ॉशिंग अलाउंस जैसे तमाम भत्तों का विलय किया गया था। अब इन सभी की जगह पर सिर्फ एक ड्रेस अलाउंस मिलता है। आइए जानते हैं, किस विभाग में मिलता है कितना ड्रेस अलाउंस…








रेलवे में कितना मिलता है ड्रेस अलाउंस
7वें वेतन आयोग के तहत आरपीएफ और रेलवे प्रोटेक्शन स्पेशल फोर्स के अफसरों को ड्रेस अलाउंस के तौर पर सालाना 20,000 रुपये मिलता है। स्टेशन मास्टरों को सालाना 10,000 रुपये का ड्रेस अलाउंस मिलता है। रेलवे में ट्रैकमैन और रनिंग स्टाफ के तौर पर काम करने वाले कर्मचारियों को 5,000 रुपये सालाना मिलते हैं। रेलवे की नर्सों को सालाना की बजाय प्रति माह 1,800 रुपये मिलते हैं।





डिफेंस कर्मियों का ड्रेस अलाउंस
 स्पेशल प्रोटेक्शन ग्रुप के जवानों को सालाना 27,800 रुपये ड्रेस अलाउंस के तौर पर मिलते हैं। एसपीजी के ही नॉनऑपरेशनल कर्मचारियों को 21,225 रुपये सालाना मिलते हैं।

 थल, जल और वायु सेना के अधिकारियों को सालाना 20,000 रुपये ड्रेस अलाउंस के तौर पर मिलते हैं।

 CAPF, CPO, IPS और कोस्ट गार्ड अधिकारियों को 20,000 रुपये सालाना ड्रेसिंग अलाउंस के तौर पर मिलते हैं।

अन्य विभागों में कितना मिलता है ड्रेस अलाउंस
 स्टाफ कार ड्राइवर, एमटीएस और कैन्टीन स्टाफ को सालाना 5,000 रुपये ड्रेस अलाउंस के तौर पर मिलते हैं।

 कस्टम डिपार्टमेंट के एग्जीक्युटिव स्टाफ को साल में 10,000 रुपये मिलते हैं।

 केंद्रीय एक्साइज एवं नारकोटिक्स डिपार्टमेंट के कर्मियों को 10,000 रुपये हर साल ड्रेसिंग अलाउंस के तौर पर मिलते हैं।




 इंडियन कॉरपोरेट लॉ सर्विस के अधिकारियों को 10,000 रुपये प्रति वर्ष मिलते हैं।

 एनआईए के लीगल अधिकारियों को 10,000 रुपये प्रति वर्ष ड्रेस अलाउंस के तौर पर मिलते हैं।

 केंद्र शासित प्रदेशों के पुलिस कर्मियों को सालाना 10,000 रुपये मिलते हैं।

 इंडियन कोस्ट कार्ड के कर्मियों को हर साल ड्रेस अलाउंस के तौर पर 10,000 रुपये मिलते हैं।

Category: News, Seventh Pay Commission

About the Author ()

Comments are closed.