भारतीय रेलवे – ट्रैकमेन के लिए अच्‍छी खबर, रेल लाइन के किनारे होगा रेस्ट रूम

| March 4, 2020

दुश्‍वारियों के बीच सुरक्षित रेल परिचालन में अहम भूम‍िका निभाने वाले ट्रैक मैन के लिए अच्‍छी खबर है। अब उन्‍हें भोजन करने और आराम के लिए बेहतर जगह मुहैया होगी। उन्‍हें ड्यूटी के दौरान यहां-वहां भटकना नहीं पड़ेगा।

ट्रेनों  का परिचालन सुरक्षित बनाने में ट्रैकमेन का अहम योगदान होता है। तमाम खतरों के बीच और चौबीस घंटे वे लाइन के मेन्टेनेंस और निगरानी का कार्य करते हैं। रेल प्रशासन ने ट्रैकमेनों की सुविधा में इजाफा करते हुए करीबन एक करोड़ रुपये खर्च कर चक्रधरपुर रेल मंडल के विभिन्न स्टेशनों में रेल लाइन के किनारे रेस्ट रूम बनाने का निर्णय लिया है। वहीं कुछ स्टेशनों में ट्रैकमेनों के लिए रेस्ट रूम बनाने का कार्य पूरा भी किया जा चुका है। दिसंबर माह तक मंडल के सभी स्टेशनों में ट्रैकमेनों के लिए रेस्ट रूम बनकर तैयार हो जाएंगे।








प्रत्येक गैंग का होगा एक रेस्ट रूम 
चक्रधरपुर रेल मंडल में लगभग 5 हजार ट्रैकमेन कार्यरत हैं। एक गैंग में 20 से 25 ट्रैकमेन होते हैं। इन गैंग में कार्यरत ट्रैकमेन की सुविधा के लिए रेस्ट रूम बनाया जा रहा है।  फिलहाल ड्यूटी के दौरान लंच ऑवर में ट्रैकमेन रेल लाइन के किनारे अपनी थकान मिटाकर पुन: कार्य में लग जाते हैं। ट्रैकमेन भीषण गर्मी, बरसात तथा ठंड के मौसम में अपने कार्य को अंजाम देते हैं। इस वजह से रेल प्रशासन ने ट्रैकमेन की सुविधा के लिए प्रत्येक गैंग के लिए एक एक रेस्ट रूम विभिन्न स्टेशनों में बनाने का निर्णय लिया है।




यह सुविधाएं होगी रेस्ट रूम में 
ट्रैकमेन रेस्ट रूम में बिजली, स्वच्छ पेयजल, शौचालय, चेयर, टेबल लगे होंगे। ट्रैकमेन कार्य समाप्त कर लंच ऑवर में यहां पर आकर बड़े आराम के साथ खाना खाकर आराम कर सकेंगे। ज्ञात हो कि चक्रधरपुर रेल मंडल में कई ऐसे दुर्गम स्टेशन है, जहां ट्रैकमेन को स्वच्छ पेयजल तक उपलब्ध नहीं हो पाता। रेस्ट रूम के बनने के बाद इन्हें स्वच्छ पेयजल भी मिलेगा।




क्या कहते हैं अधिकारी
ट्रैकमेन के लिए रेस्ट रूम बनाने का टेंडर हो चुका है। वहीं कुछ स्टेशनों में रेस्ट रूम बनाने का कार्य शुरू हो चुका है। दिसंबर माह के अंत तक चक्रधरपुर रेल मंडल के विभिन्न स्टेशनों में रेस्ट रूम बनाने का कार्य संपन्न हो जाएगा।

Category: Indian Railways, News

About the Author ()

Comments are closed.