रेल जीएम इंस्पेक्शन पर जा रहे थे लेकिन फेल सिग्नल ने कराया इंतजार

| March 1, 2020

रेलवे का सिग्नल फेल होने से यात्री ट्रेन और मालगाड़ियों के पहिए तो अक्सर थम जाते हैं। मगर शनिवार को जो हुआ, उसने धनबाद रेल मंडल के अफसरों का पसीना छुड़ा दिया। रेल मंडल के दौरे पर आए पूर्व मध्य रेल महाप्रबंधक ललित चंद्र त्रिवेदी धनबाद से पतरातू तक का विंडो इंस्पेक्शन (खिड़की से निरीक्षण) करने निकले थे। धनबाद से खुलकर उनका सैलून बमुश्किल 8-10 किमी चला ही था कि उसके पहिए थम गए।








सैलून रुकते ही महकमे में अफरातफरी मच गई। धनबाद समेत मुख्यालय हाजीपुर से आए दूसरे आला अफसर भी हरकत में आ गए। फौरन जाच हुई तो पता चला कि सिग्नल फेल हो गया है। आनन-फानन में सिग्नल एंड टेलिकॉम विभाग के कर्मचारियों ने सिग्नल को दुरुस्त करना शुरू किया। काफी जद्दोजहद के बाद भी जीएम का सैलून सुबह लगभग साढ़े दस से ग्यारह बजे तक बासजोड़ा हाल्ट पर खड़ा रहा। सिग्नल ठीक होने पर सैलून खुला। इसके बाद अफसरों ने राहत की सास ली।




अमृतसर शताब्दी एक्सप्रेस की चपेट में आए रेलवे क्रॉसिंग पार कर रहे 12 लोग, 3 की मौत

लुधियाना-दिल्ली रेलवे लाइन स्थित ग्यासपुरा फाटक पर अमृतसर जा रही शताब्दी एक्सप्रेस की चपेट में 12 लोग आ गए।  इसमें 3 लोगों की मौत हो गई, जबकि कई लोग घायल हो गए। हादसा शनिवार शाम 8:10 बजे हुआ। सभी लोग फाटक बंद होने के बावजूद पटरी पार कर रहे थे।

चश्मदीदों के मुताबिक, शताब्दी एक्सप्रेस ग्यासपुरा फाटक के पास पहुंची ही थी तभी फाटक क्रॉस कर लाइनों पर खड़े करीब 10-12 लोग ट्रेन की चपेट में आ गए। लोग जिन वाहनों पर सवार थे, वह कई मीटर तक घिसटते चले गए और क्षतिग्रस्त हो गए। मृतकों व घायलों को उनके परिजन और पुलिस ने 108 एंबुलेंस के जरिए अस्पतालों में पहुंचाया। मृतकों की पहचान गुरप्रीत कौर, रत्नजीत सिंह और गुरदीप सिंह के रूप में हुई है। अर्जुन कुमार और सनी समेत कई लोगों को निजी अस्पतालों में भर्ती करवाया गया।




ट्रेस पासिंग का मामला दर्ज किया, 5 वाहन जब्त

लुधियाना रेलवे के एरिया चीफ मैनेजर परमिंदर सिंह ने बताया कि यह मामला ट्रेस पासिंग का है। रेलवे फाटक बंद होने के बाद जो लोग अपने वाहनों को ट्रैक पर ले आए थे, वह ट्रेन की चपेट में आए हैं। पुलिस ने 5 वाहन जब्त किए हैं। दूसरी तरफ, जीआरपी के डीएसपी प्रदीप संधू ने बताया कि जो लोग ट्रेन की चपेट में आए हैं, उन पर ट्रेस पासिंग का मामला दर्ज किया जा रहा है। मामले में रेलवे के किसी अधिकारी की कोई गलती नहीं है।

Category: News

About the Author ()

Comments are closed.