रेलवे कर्मियों को खुशखबरी, चाहे जहां ले सकते हैं तबादला

| February 8, 2020

रेलवे कर्मियों को खुशखबरी, चाहे जहां ले सकते हैं तबादला

उत्तर रेलवे मंडलीय कार्यालय सभागार में एनआरएमयू की 229वीं दो दिवसीय स्थाई वार्ता तंत्र के समापन पर दो बड़े मुद्दों पर निर्णायक फैसले हुए। इसमें कर्मचारियों के स्वयं के अनुरोध पर स्थानांतरण के मामलों को गति मिलेगी। अभी तक मंडल में कर्मचारियों की मांग के बावजूद स्थानांतरण नहीं मिल पा रहा था।








साथ ही सिक लाइन में काम कर रहे दिव्यांग (दोनों आंखों को खोने वाले) मनोज चंदेरिया और राम कृष्ण को अब आलमबाग वर्कशाप में भेजा जाएगा। दरअसल, सिक लाइन पर दोनों ही कर्मचारी लाइन पर काम करने को मजबूर थे। वर्कशाप में ऐसे दिव्यांग कर्मचारियों के लिए अलग से व्यवस्था की गई है। इससे कर्मचारियों को राहत मिलेगी। एनआरएमयू के मंडल मंत्री आरके पाण्डेय ने निर्णायक फैसलों पर अपनी सहमित देने पर मंडल रेल प्रबंधक संजय त्रिपाठी की प्रशंसा की।




उन्होंने बताया कि इसके अलावा रेल आवासों और कालोनियों की मरम्मत का काम अब रेल अधिकारी और यूनियन साथ मिलकर करेंगे। इससे कर्मचारियों को रहने के लिए बेहतर आवास मिल पाएंगे। वहीं, लंबित समस्याओं के शीघ्र निस्तारण के लिए भी उन्होंने आश्वासन दिया साथ ही विभागीय अधिकारियों को निर्देश जारी किए। इस मौके पर डीआरएम संग एडीआरएम अमित श्रीवास्तव, वरिष्ठ मंडल कार्मिक प्रबंधक मुकेश बहादुर सिंह, यूनियन के मंडल अध्यक्ष राजेश सिंह, केंद्रीय उपाध्यक्ष एसयू शाह समेत कई पदाधिकारी मौजूद रहे।

रेलवे कर्मियों को खुशखबरी, चाहे जहां ले सकते हैं तबादला

टाटानगर रेलवे कर्मचारियों के लिए एक खुशखबरी सामने आ रही है। वे अब अपनी मनचाही जगह पर तबादला करवा सकते हैं। वे अब किसी भी जोन या मंडल में ट्रांसफर ले सकते हैं। ऐच्छिक तबादले में पांच वर्ष नौकरी आवश्यक है। रेलवे बोर्ड से 2015 में यह आदेश हुआ था।




अब नए ढंग से काम शुरू हो रहा है। रेलवे ऐच्छिक तबादले को ऑनलाइन कर रहा है। इससे रेल कर्मचारी को म्यूचुअल तबादले की तरह अपने मनपसंद जोन एवं मंडल में कर्मचारी नहीं खोजना पड़ेगा। लेकिन विभागीय स्तर पर डीआरएम को आवेदन देने की व्यवस्था कायम रहेगा।

दक्षिण-पूर्व जोन मेंस कांग्रेस के महासचिव एसआर मिश्रा ने बताया कि रेलवे में ऐच्छिक तबादला सुविधा है। लेकिन जोन व मंडल स्तर में रेल कर्मचारियों को तबादले की व्यवस्था लाभ नहीं मिल पा रहा है।

Category: Indian Railways, News

About the Author ()

Comments are closed.