मध्यम वर्ग को आयकर में मिल सकती है राहत, द कारपोरेट के बाद अब आम आदमी को भी मिल सकता है कर छूट का तोहफा

| January 20, 2020

वर्ष २०२५ तक पांच हजार अरब डालर की अर्थव्यवस्था बनने के लIय को पाने के लिए एक फरवरी को पेश होने वाले आम बजट में मध्यम वर्ग को आयकर में बड़़ी राहत मिल सकती है। इस राहत के जरिए सरकार मध्यम वर्ग की क्रय शक्ति बढ़øाना चाहती है ताकि अर्थव्यवस्था की हालत सुधर सके। वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण एक फरवरी को वित्त वर्ष २०२०–२१ का बजट पेश करेंगी। वर्तमान में सुस्त पड़ी अर्थव्यवस्था के मद्दे नजर इस बजट को लेकर काफी उम्मीदें लगाई जा रही हैं।








विश्लेषक ऐसी उम्मीद कर रहे हैं कि वित्त मंत्री कारपोरेट कर में कमी की तर्ज पर अब आयकर में भी छूट देकर लोगों की क्रय शक्ति को बढÃा सकती है। इस वर्ष के बजट में आयकर कानून के स्थान पर प्रत्यक्ष कर संहिता को लाए जाने का अनुमान भी जताया जा रहा है। इससे जुड़ी समिति ने मध्यम वर्ग के लिए आयकर का बोझ कम करने की सिफारिश की थी। अगर ये सिफारिशें लागू होती हैं तो मध्यम वर्ग पर कर का बोझ कम हो सकता है॥। समिति की रिपोर्ट के अनुसार कर स्लैब में बदलाव से कुछ वर्षों के लिए तो राजस्व का नुकसान हो सकता है‚ लेकिन लंबे समय में इसका फायदा देखने को मिलेगा। विश्लेषकों का कहना है कि सरकार अगर करदाताओं की संख्या बढ़ाने का प्रयास करती है तो स्लैब में बदलाव से राजस्व में कमी की भरपाई की जा सकती है।




सरकार पहले ही पांच लाख रुûपए तक की सालाना कर योग्य आय को पूरी तरह कर छूट दे रखी है। इससे ८.५ लाख रुûपए तक की आय वाले भी बचत करके कर के दायरे से बाहर हो सकते हैं। लेकिन पांच लाख रुपए तक की सालाना आय पर मिल रही १२‚५०० रुûपए तक की कर छूट इस सीमा को पार करते ही यह छूट समाप्त हो जाती है। विश्लेषकों का कहना है कि इस शर्त को खत्म करना जरूरी है॥




विशेषज्ञों का कहना है कि रिपोर्ट में प्रत्यक्ष कर संहिता में प्रस्तावित कर स्लैब सरकार की मंशा के मुताबिक हैं। अगर सरकार चाहे तो इसे अमली जामा पहना सकती है हालांकि उनका कहना है कि कर स्लैब में ऐसे बदलाव करने पर सरकार के राजस्व पर असर पड़ेगा॥। द आम बजट में नई प्रत्यक्ष कर संहिता का ऐलान भी कर सकती हैं वित्त मंत्री॥ द अर्थव्यवस्था को रफ्तार देने के लिए आम आदमी की क्रय शक्ति बढ़ना जरूरी॥ द आयकर स्लैब में कर छूट का दायरा बढ़øाकर ही बढ़øाई जा सकती है क्रय शक्ति॥

Category: News

About the Author ()

Comments are closed.