रेलवे कारखाना मुख्यालय बिहार में होगा बंद, कर्मचारियों में रोष

| January 18, 2020

बिहार से एक और केंद्रीय दफ्तर को हटाने की तैयारी पूरी कर ली गई है। इस कड़़ी में अब रेल कारखाने के मुख्यालय को पटना से लखनऊ शिफ्ट किये जाने की कवायद तेज हो गयी है। इससे पूर्व बीएसएनएल के कॉल सेंटर को भी पटना से अन्यत्र शिफ्ट किया जा चुका है। इसके अलावा सीड़ीए के क्षेत्रीय मुख्यालय को भी पटना से शिफ्ट करने की बात चल रही है। केंद्र सरकार के इस निर्णय से जहां राज्य में रोजगार पर प्रतिकूल असर पड़़ने की आशंका है‚ वहीं इन कार्यालयों में कार्यरत कर्मियों में असंतोष व्याप्त है।








बिहार में नये कारखानों का निर्माण करने के उद्’ेश्य से वर्ष २००३ में तत्कालीन रेलमंत्री लालू प्रसाद ने कारखाना परियोजना संगठन‚ पटना की स्थापना की थी। इस परियोजना के तहत बिहार में दो नये कारखाने हरनौत एवं बेला (छपरा) का निर्माण कर रेलवे को सुपुर्द कर दिया गया। दोनों कारखाने से उत्पादन शुरू है। इनकी कार्यक्षमता से प्रभावित होकर रेलवे बोर्ड़ ने बिहार के साथ कई अन्य राज्यों महाराष्ट्र‚ आंध्रप्रदेश‚ तेलंगाना‚ ओडि़शा‚ पश्चिम बंगाल और झारखंड़ में नये कारखानों के निर्माण का कार्य इस परियोजना को सौंपा है। सभी कारखानों के कार्य प्रगति पर हैं। रेलवे के उच्च पदस्थ सूत्रों ने बताया कि वर्कशॉप प्रोजेक्ट्स ऑर्गेनाइजेशन मुख्यालय को पटना से लखनऊ शिफ्ट करने के उद्श्य से बेला वर्कशॉप प्रोजेक्ट्स के डि़प्टी सीई एके शर्मा अपनी टीम के साथ लखनऊ स्थित चयनित भवन का निरीक्षण करेंगे।




ऐसी संभावना है कि भवन के तीनों फ्लोर को जल्द से जल्द काम शुरू करने के लिए वर्कशॉप प्रोजेक्ट्स ऑर्गेनाइजेशन (डब्लूपीओ) को सौंपने का अनुरोध किया जायेगा। भवन के दो फ्लोर को एक सप्ताह के भीतर एवं तीसरे फ्लोर को अगले एक–दो महीने में सौंप दिया जायेगा। कारखाना परियोजना संगठन‚ पटना के रेलवे कार्यालय को पटना से हटाकर लखनऊ शिफ्ट करने से बिहार को राजस्व की हानि होगी। रेल कारखाना परियोजना का मुख्यालय पटना बनाने का उद्’ेश्य बिहार के राजस्व को बढ़ना‚ यहां रोजगार का सृजन करना एवं मजदूरों को काम देकर यहां से उनके पलायन को रोकना भी है।




पटना से मुख्यालय को हटाने से आश्रित लोगों का रोजगार छिन जायेगा और राज्य में बेरोजगारी बढ़øेगी। इस परियोजना के तहत बिहार के लगभग ढाई सौ कर्मचारी कार्यरत हैं। ये सभी कर्मचारी भारतीय रेलवे के विभिन्न कार्यालयों से विकल्प के आधार पर पटना में कार्य करने के लिए स्थानांतरण लेकर आये हैं। मुख्यालय को पटना से लखनऊ स्थानांतरण होने की खबर से कर्मचारियों में रोष व्याप्त है।

Category: News

About the Author ()

Comments are closed.