रेलवे में ग्रेड ए परीक्षा के लिए तैयार किया गया सिस्टम, ग्रुप ऑफ मिनिस्टर तय करेगा पद

| January 13, 2020

 रेलवे में ग्रेड ए सर्विस के लिए होने वाली प्रस्तावित परीक्षा में कितने पद होंगे इसे मंत्रिसमूह (जीओएम) तय करेगा। सरकार ने प्रशासनिक सुधार के लिए बनी जीओएम को इसके लिए प्रस्ताव तैयार करने को कहा है। दरअसल, अगले साल से रेलवे सर्विस के लिए अलग से परीक्षा कराई जाएगी। अब तक इसके लिए उम्मीदवारों का चयन यूपीएससी के जरिये होता रहा है। इस साल अंतिम बार इस परीक्षा से काडर का चयन होगा।








सूत्रों के अनुसार इस साल इस सेवा के लिए पदों की संख्या कम रह सकती है। अगले साल जब नई व्यवस्था के तहत पहली परीक्षा होगी तब सिविल सर्विस परीक्षा के बाद सबसे अधिक पदों के लिए इस परीक्षा के जरिये कैंडिडेट चुने जा सकते हैं। सूत्रों के अनुसार यह परीक्षा भी तीन चरणों में होगी जिनमें प्री, मेन और इंटरव्यू का दौर होगा। मुख्य परीक्षा में रेलवे से जुड़ी तकनीकी विशेषज्ञता वाले सवाल पूछे जाएंगे।




परीक्षा साल की शुरुआत में होगी। मतलब इसके लिए अधिसूचना इस साल सितंबर-अक्तूबर तक जारी हो जाएगी। अभी सिविल सर्विस के अलावा इंडियन फॉरेस्ट सर्विस के लिए अलग से परीक्षा होती है। डीओपीटी सूत्रों के अनुसार फॉरेस्ट सर्विस की तर्ज पर ही इसकी परीक्षा होगी। पिछले दिनों मोदी सरकार ने रेलवे में एक बड़ा सुधार करते हुए इसमें बदलाव को मंजूरी दी थी। इसके तहत तय किया गया था कि सिविल सर्विस से रेलवे अलग होगा और नए काडर के लिए डीओपीटी और यूपीएससी मिलकर परीक्षा आयोजित करेंगे। इसमें तकनीकी और गैर तकनीकी, दोनों के ग्रेड ए के पद के लिए चयन होगा।




रेलवे को अगले कुछ महीने के अंदर पहला सीईओ भी मिल सकता है। सरकार ने रेलवे के प्रशासनिक काडर में भी बड़ा बदलाव किया है।
रेलवे में ग्रेड ए परीक्षा के लिए सिस्टम तैयार, जीओएम तय करेगा- कितने होंगे पद

Category: News

About the Author ()

Comments are closed.