सातवाँ वेतन आयोग – बजट से पहले इन कर्मचारियों की हो सकती है बल्ले-बल्ले! पेंशन पर भी है बड़ी खबर

| January 8, 2020

बजट से पहले इन कर्मचारियों की हो सकती है बल्ले-बल्ले! पेंशन पर भी है बड़ी खबर

बजट से पहले केंद्र सरकार कर्मचारियों को बड़ा तोहफा दे सकती है। फरवरी के महीने में वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण संसद में बजट पेश करेंगी। ऐसी उम्मीद है कि बजट 2020 से पहले सरकार कर्मचारियों के महंगाई भत्ते में बढ़ोतरी कर सकती है। खबरों की मानें तो बजट 2020 से पहले कर्मचारियों के महंगाई भत्‍ते में 4 फीसदी तक के इजाफे को मंजूरी मिल सकती है। कर्मचारी न्यूनतम वेतन में भी बढ़ोत्तरी की मांग कई दिनों से कर रहे हैं।








कर्मचारियों की मांग है कि उनके न्यूनतम वेतन को 18,000 से 26,000 रुपए किया जाए। ऐसे में माना जा रहा है कि डीए में सरकार 4 फीसदी तक की बढ़ोत्तरी कर सकती है। मालूम हो कि कर्मचारियों के डीए में साल में दो बार (जनवरी और जुलाई) बढ़ोतरी की जाती है।

आपको बता दें कि रिटायरमेंट के बाद कर्मचारियों को राहत देने के लिए सरकार ने कई तरह के पेंशन स्कीम लॉन्च किये हैं। पिछले साल फरवरी में भारत सरकार ने Pradhan Mantri Shram Yogi Maan-Dhan पेंशन स्कीम लॉन्च किया था। यह पेंशन योजना असंगठित क्षेत्र में काम करने वाले कर्मचारियों को लाभ देने के लिए लॉन्च की गई थी। इस स्कीम के तहत 60 साल के बाद लाभुकों को कम से कम 3,000 रुपया मासिक पेंशन देने की बात कही गई है।




इस स्कीम से जुड़ने लेने के लिए अंसगठित क्षेत्र के कर्मचारियों की उम्र सीमा 18-40 वर्ष निर्धारित की गई है। इसके अलावा इसका लाभ लेने वाले कर्मचारी की मासिक आय 15,000 रुपए से ज्यादा नहीं होनी चाहिए और उसका Employees’ Provident Fund Organization का सदस्य होना भी जरुरी है।




केंद्र सरकार ने साल 2015 के मई महीने में Atal Pension Yojana (APY) भी लॉन्च किया था। 18-40 वर्ष की आयु के लोग इस योजना का लाभ उठा सकते हैं। खास बात यह है कि कर्मचारी बैंक में खोले गए अपने बचत खाता या पोस्ट ऑफिस के बचत खाता अकाउंट के जरिए इस योजना से जुड़ सकते हैं। यह इस बात पर निर्भर करता है कि आपने कौन सा पेंशन प्लान लिया है। इस योजना से जुड़ने वाले लोग 60 साल की उम्र के बाद 1000, 2000, 3000, 4000 और 5000 रुपए तक पेंशन के तौर पर प्राप्त कर सकते हैं।

Category: News, Seventh Pay Commission

About the Author ()

Comments are closed.