‘एक राष्ट्र, एक वेतन दिवस’ लागू करने पर विचार कर रहा केंद्र सभी कर्मियों को एक ही दिन वेतन मिलेगा!

| November 16, 2019

‘एक राष्ट्र, एक वेतन दिवस’ लागू करने पर विचार कर रहा केंद्र, सभी कर्मियों को एक ही दिन वेतन मिलेगा!

मोदी सरकार अब संगठित क्षेत्र के कर्मचारियों के लिए एक ही दिन वेतन मिलने की योजना पर काम कर रही है। लेबर मिनिस्टर संतोष गंगवार का कहना है कि देशभर में हर महीने सभी लोगों को एक ही दिन वेतन मिलना चाहिए, ताकि लोगों को समय से वेतन का भुगतान हो सके। सरकार इस योजना को लागू करना चाहती है।







एक कार्यक्रम में उन्होंने कहा कि श्रमिक वर्ग के हितों की सुरक्षा के लिए सरकार ‘एक राष्ट्र, एक वेतन दिवस’ लागू करने पर विचार कर रही है। उन्होंने कहा कि देशभर में हर महीने सभी लोगों को एक ही दिन वेतन मिलना चाहिए, ताकि लोगों को समय से वेतन का भुगतान हो सके। इस विधेयक को जल्द ही संसद से पारित कराने का प्रयास किया जाएाग।




उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार वेतन संहिता और व्यावसायिक सुरक्षा, स्वास्थ्य और कार्यस्थल स्थिति (OSH) संहिता को लागू करने की प्रक्रिया में है। वेतन संहिता को पहले ही संसद की मंजूरी मिल चुकी है। OSH संहिता को लोकसभा में 23 जुलाई 2019 को पेश किया गया। यह संहिता सुरक्षा, स्वास्थ्य और कामकाज के हालात पर 13 केंद्रीय कानूनों को एक में ही समाहित कर देगी।




OSH संहिता में कई नई पहल की गई हैं। इनमें कर्मचारियों को अनिवार्य तौर पर नियुक्ति पत्र जारी करना, वार्षिक मुफ्त स्वास्थ्य जांच कराना शामिल है। उन्होंने काह कि मोदी सरकार जब से सत्ता में आई है, श्रम कानूनों में सुधार के लिए लगातार काम कर ही है।

Category: News

About the Author ()

Comments are closed.