रेल सफर में भूख मिटाना होगा महंगा

| November 16, 2019

रेल में सफर के दौरान चाय, नाश्ता और भोजन के लिए अब ज्यादा खर्च करना होगा। राजधानी, शताब्दी और दुरंतो के साथ ही दूसरी ट्रेनों के यात्रियों को महंगाई की मार ङोलनी पड़ेगी। इन ट्रेनों के लिए लागू नई दरों के मुताबिक, सेकंड एसी के यात्रियों को चाय के लिए 10 की जगह 20 रुपये जबकि स्लीपर क्लास के यात्रियों को 15 रुपये देने होंगे। प्रीमियम ट्रेनों में पहले की तरह सुबह की चाय की तुलना में शाम की चाय महंगी होगी। वहीं, जनता खाना के लिए 20 रुपये जबकि भोजन की थाली के लिए 50 की जगह 80 रुपये खर्च करने पड़ेंगे। रेलवे बोर्ड की ओर से इस संबंध में पत्र जारी कर दिया गया है। राजधानी, शताब्दी और दुरंतो ट्रेनों के किराये में ही चाय, नाश्ते और खाने का पैसा शामिल किया है। हालांकि, यात्री के पास भोजन नहीं लेने का भी विकल्प होता है।








चार माह बाद लागू होंगी बढ़ी हुई दरें : रेलवे अधिकारियों के अनुसार, नई दरें लागू करते समय यात्रियों की सुविधा का ख्याल रखा जाएगा। टिकटिंग सिस्टम में नए मेन्यू और शुल्क 15 दिनों में अपडेट हो जाएंगे, जबकि 120 दिनों (चार महीने) के बाद इसे लागू किया जाएगा ताकि पहले से टिकट बुक कराने वालों को असुविधा न हो।




इससे पहले 2014 में हुआ था इजाफा : रेलवे अधिकारियों का कहना है कि 2014 के बाद पहली बार खानपान की दरों में इजाफा हुआ है। भारतीय रेलवे खानपान एवं पर्यटन निगम (आइआरसीटीसी) पिछले काफी समय से खानपान की दरों में बदलाव की मांग कर रहा था। उसकी मांग और रेलवे बोर्ड की ओर से गठित मेन्यू एंड टैरिफ कमेटी की सिफारिश पर खानपान की दरें बढ़ाने का फैसला किया गया है। उनका कहना है कि दरें बढ़ने से खानपान की गुणवत्ता में सुधार होगा। सुबह की चाय के मुकाबले शाम की चाय महंगा होने को लेकर अधिकारी कहते हैं कि शाम की चाय के साथ रोस्टेड नट्स, स्नैक्स, मिठाइयां आदि भी दी जाएंगी।




ट्रेनों में मिलेगी बिरयानी: ट्रेनों में यात्रियों को बिरयानी परोसने का भी फैसला किया गया है। 350 ग्राम वेज बिरयानी 80 रुपये में, अंडा बिरयानी 90 रुपये और चिकन बिरयानी 110 रुपये में उपलब्ध होंगे।

Category: News

About the Author ()

Comments are closed.