रेल परियोजनाओं की निगरानी के लिए तीन ऑनलाइन एप इससे काम में तेजी आएगी और डिजिटल इंडिया को भी बढ़ावा मिलेगा

| November 9, 2019

रेलवे ने अपनी परियोजनाओं की सटीक निगरानी के लिए तीन नए ऑनलाइन एप बनाए हैं। इससे काम में तेजी आएगी और डिजिटल इंडिया को भी बढ़ावा मिलेगा। यह तीन नए ऑनलाइन एप हैं- सीआरएस सेक्शन मैनेजमेंट सिस्टम, रेल- रोड क्रासिंग जीएडी अनुमोदन पण्राली और टीएमएस फॉर कंस्ट्रक्शन । सीआरएस सेक्शन मैनेजमेंट सिस्टम : यह प्रौद्योगिकी पण्राली रेलवे परिसम्पत्तियों के निर्माण, रखरखाव और उन्नयन से जुड़ी है।








इसके तहत लेवल क्रॉसिंग और छोटे पुलों से संबंधित कायरे की निगरानी की जाएगी। इसके अलावा इस एप्लिकेशन के माध्यम से टर्नआउट और लूप लाइंस में रेलगाड़ी की गति में वृद्धि, नई लाइनों का निरीक्षण और दोहरीकरण आदि शामिल हैं। इसके तहत सीआरएस स्वीकृति के लिए मामलों पर तेजी से काम होगा।रेल-रोड क्रॉसिंग जीएडी अनुमोदन पण्राली : ऑनलाइन ई-गवन्रेस प्लेटफ़ॉर्म के लिए यह परियोजना रेल मंत्रालय और सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्रालय द्वारा तैयार की गई है। इसके माध्यम से ओवर ब्रिज (आरओबी)/रोड अंडर ब्रिज (आरयूबी) व सड़क निर्माण से संबंधित सामान्य अनुबंध ड्राइंग (जीएडी) की तैयारी की अनुमोदन प्रक्रिया में तेजी लाना है।





style=”text-align: justify;”>यह पण्राली 2014 से सफलतापूर्वक काम कर रही है। अब राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों के लिए भी आरओबी/आरयूबी के निर्माण से जुड़े मामलों को देखने के लिए अलग से एक मॉड्यूल विकसित किया गया है। परियोजना के प्रस्तावों की मंजूरी को प्रत्येक चरण के लिए रेलवे और राज्य सरकारों / केंद्र शासित प्रदेशों की जवाबदेही तय की गई है। पूरा प्रस्ताव अधिकतम 60 दिनों में अनुमोदित किए जाने का लक्ष्य है।




टीएमएस फॉर कंस्ट्रक्शन : यह एप्लिकेशन निर्माण और परियोजना संगठनों द्वारा बनाई जाने वाली नई रेल परिसम्पत्तियों के लिए है। निर्माण के दौरान और निर्माण पूरा हो जाने दोनों ही स्थितियों में परिसम्पत्तियों से जुड़े डेटा नियमित रूप से इस पर अपलोड किए जा सकते हैं। इससे परियोजना संबंधी आंकड़ों के लिए कई लाभ होंगे।

Category: News

About the Author ()

Comments are closed.