शुरू हुई जांच: डाटा लॉगर ने बताया, काशी विश्वनाथ की गई थी रिवर्स, काशी विश्वनाथ एक्सप्रेस के चालक ने पार किया लाल सिग्नल

| September 24, 2019

शुरू हुई जांच: डाटा लॉगर ने बताया, काशी विश्वनाथ की गई थी रिवर्स, काशी विश्वनाथ एक्सप्रेस के चालक ने पार किया लाल सिग्नल

काशी विश्वनाथ एक्सप्रेस के चालक ने सीबीगंज स्टेशन पर लाल सिग्नल के आगे ट्रेन को निकाल दिया। चालक की इस बड़ी लापरवाही को अधिकारियों ने गंभीरता से लिया। कंट्रोल के आदेश पर चालक को शाहजहांपुर पर बदला गया।

शुक्रवार को डाउन लाइन की काशी विश्वानाथ एक्सप्रेस लोको पायलट एसपी पांडेय, एवं सहायक प्रमोद कुमार सोनी ले जा रहे थे। सीबीगंज स्टेशन के आउटर के पास लाइन क्लीयर न होने की वजह से काशी विश्वनाथ को लाल सिग्नल दिया गया। चालक जब तक ट्रेन को कंट्रोल कर रोक पाता ट्रेन लाल सिग्नल को पार कर चुकी थी।








मामले की जानकारी जब उच्चाधिकारियों को लगी तो खलबली मच गई। हालांकि कुछ देर बाद लाइन को क्लीयर कर ट्रेन को रवाना कर दिया गया। मामले को गंभीरता से लेते हुए कंट्रोल के आदेश पर चालक को शाहजहांपुर स्टेशन पर बदलने के निर्देश दिए। जिसके बाद रोजा जंक्शन से दूसरा चालक भेजा गया। स्टेशन अधीक्षक मनोज कुमार ने बताया कि शाहजहांपुर स्टेशन पर काशी विश्वनाथ एक्सप्रेस के चालक को बदला गया है। लेकिन किस वजह से बदला गया है इसकी जानकारी नहीं है।




शुरू हुई जांच: डाटा लॉगर ने बताया, काशी विश्वनाथ की गई थी रिवर्स

 सीबीगंज के पास शुक्रवार को काशी विश्वनाथ एक्सप्रेस के लोको पायलट ने रेड सिग्नल पार करने के अलावा अधिकारियों को गुमराह करने की भी कोशिश की थी। जांच के दौरान रेलवे ट्रैक पर लगे डाटा लॉगर को रीड किया गया। तब पता चला कि काशी विश्वनाथ को रोकने के बाद लोको पायलट ने इसे दोबारा करीब चार डिब्बा पीछे किया था। इससे निलंबित लोको पायलट एसपी पांडेय एवं सहायक प्रमोद कुमार सोनी के खिलाफ और भी कड़ी कार्रवाई की जा सकती है।




शुक्रवार को डाउन लाइन की काशी विश्वनाथ एक्सप्रेस लोको पायलट एसपी पांडेय एवं सहायक प्रमोद कुमार सोनी ले जा रहे थे। सीबीगंज स्टेशन के आउटर के पास लाइन क्लीयर न होने की वजह से काशी विश्वनाथ को रेड सिग्नल दिया गया था। मगर चालक के रोकने तक ट्रेन लाल सिग्नल पार कर चुकी थी। मामले को गंभीरता से लेते हुए मुख्यालय के आदेश पर लोको पायलट को शाहजहांपुर स्टेशन पर बदल दिया गया था। वहीं, सीनियर डीएमई ने प्रथम दृष्टया दोषी मानते हुए शनिवार को लोको पायलट और सहायक लोको पायलट को निलंबित कर दिया था। वहीं, मामले की उच्चस्तरीय जांच के लिए टीम गठित की थी। जिसे हफ्ते भर में अपनी जांच रिपोर्ट उच्चाधिकारियों को सौंपनी है।

Category: News

About the Author ()

Comments are closed.