पुरानी पेंशन बहाली के लिए देश भर में होगा आंदोलन

| September 9, 2019

-इप्सेफ की राष्ट्रीय कार्यकारिणी के दूसरे दिन आंदोलन की घोषणा

-दिल्ली, गुजरात, राजस्थान, पंजाब के पदाधिकारी भी हुए शामिल

इंडियन पब्लिक सर्विस फेडरेशन ऑफ इंडिया (इप्सेफ) के पदाधिकारियों ने रविवार को राजधानी में आयोजित राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक में कर्मचारी समस्याओं के निस्तारण नहीं होने पर देशभर में आंदोलन करने की घोषणा कर दी।

हुसैनाबाद में जवाहरलाल नेहरू राष्ट्रीय युवा केन्द्र परिसर में दो दिवसीय बैठक के अंतिम दिन राष्ट्रीय अध्यक्ष वी पी मिश्र ने कहा कि पुरानी पेंशन योजना की बहाली, राष्ट्रीय वेतन आयोग का गठन, सुव्यवस्थित शिकायत निवारण तंत्र लागू करने, निजीकरण, संविदा और ठेकेदारी जैसे महत्वपूर्ण मुद्दों पर कोई निर्णय सरकार ने नहीं लिया है। जिसके विरोध में कर्मचारी लामबंद होना शुरू हो गए हैं।








सभी राज्यों में होगा धरना-प्रदर्शन

कार्यकारिणी की दो दिवसीय बैठक में देश भर के विभिन्न राज्यों के संगठनों के अध्यक्ष व महामंत्री ने इप्सेफ की प्रमुख मांगों पर अपने विचार रखे। आंदोलन की आवश्यकता बताते हुए कर्मचारियों में पनप रहे आक्रोश के बारे में सदन को जानकारी दी। यह सुझाव दिया कि देश के कर्मचारी अब आंदोलन की मनःस्थिति में हैं। उत्तर प्रदेश से कर्मचारी शिक्षक संयुक्त मोर्चा के महामंत्री शशि कुमार मिश्र, उत्तर प्रदेश के राज्य कर्मचारी संयुक्त परिषद के वरिष्ठ उपाध्यक्ष गिरीश कुमार मिश्र, संगठन प्रमुख डॉ के के सचान, महामंत्री अतुल मिश्रा और अध्यक्ष सुरेश कुमार रावत ने बताया कि आंदोलन का निर्णय लिया गया तय हुआ कि बड़े आंदोलन से पूर्व सभी राज्यों में धरना प्रदर्शन किया जाएगा। आंदोलन के लिए दिल्ली, गुजरात, राजस्थान, हरियाणा, हिमाचल प्रदेश ,पंजाब, बिहार ,महाराष्ट्र, उत्तरांचल सहित अनेक राज्यों में बैठकें की जाएंगी।








आंदोलन का स्वरूप

12 दिसम्बर 2019 – देश के समस्त प्रान्तों के जनपदों में धरना- प्रदर्शन

05 जनवरी 2020 – भोपाल मध्यप्रदेश में कार्यकारिणी बैठक

07 फरवरी 2020 – दिल्ली में राष्ट्रीय रैली

Category: News, NPS, Pensioners

About the Author ()

Comments are closed.