अब 62 साल में रिटायर होंगे यह कर्मचारी, पेंशन व आवास भी मिलेगा

| September 4, 2019

अपनी विभिन्न मांगों को लेकर 16 अगस्त से बेमियादी हड़ताल पर डटी सेविकाओं के प्रतिनिधियों ने मंगलवार की शाम मुख्यमंत्री रघुवर दास ने स्वयं वार्ता की। मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव सुनील वर्णवाल और महिला, बाल विकास एवं सामाजिक सुरक्षा विभाग के सचिव डॉ. अमिताभ कौशल की उपस्थिति में हुई इस वार्ता में कई मांगों पर सहमति बनी।

इसके बावजूद सेविकाओं की हड़ताल अभी जारी रहेगी। झारखंड प्रदेश आंगनबाड़ी वर्कर्स यूनियन के कार्यकारी अध्यक्ष बाल मुकुंद सिन्हा ने यह जानकारी दी। उन्होंने कहा कि सरकार के आश्वासनों पर यूनियन के अन्य पदाधिकारियों से मंत्रणा के बाद गुरुवार को हड़ताल के मामले में निर्णय लिया जाएगा।








सिन्हा ने बताया कि सरकार के साथ हुई वार्ता में सेविकाओं के सेवानिवृत्त होने की आयु सीमा 60 से बढ़ाकर 62 किए जाने, रिटायर सेविकाओं-सहायिकाओं को वृद्धापेंशन योजना से जोड़े जाने, उन्हें प्रधानमंत्री आवास देने, सेविकाओं के सुपरवाइजर बनने की उम्र सीमा 45 से बढ़ाकर 50 किए जाने आदि ¨बदुओं पर सहमति बनी। इसी तरह 2016 के 26 दिन, 2018 के 39 दिन तथा वर्तमान हड़ताल अवधि का मानदेय देने, जीवन बीमा योजना का लाभ देने, चयनमुक्त सेविकाओं की वापसी आदि मसलों पर भी मुख्यमंत्री ने सकारात्मक पहल का आश्वासन दिया।




कार्यकारी अध्यक्ष के अनुसार मानदेय में बढ़ोतरी के मसले पर मुख्यमंत्री ने विकास आयुक्त की अध्यक्षता में कमेटी गठित करने की बात कही है। यूनियन मंगलवार को हुई वार्ता के लिखित आश्वासन मिलने का इंतजार करेगा। यूनियन की अध्यक्ष वीणा सिन्हा के अलावा रामचंद्र पासवान, सीता तिग्गा, बालोमनी बाखला, पंपा, शहनारा खातून, फूलमनी आदि ने वार्ता में शिरकत की।




से बढ़कर 50 होगी सुपरवाइजर बनने की आयु सीमा

अगस्त से बेमियादी हड़ताल पर डटी सेविकाओं ने मुख्यमंत्री से की वार्ता

’>>जारी रहेगी हड़ताल, प्रतिनिधियों से वार्ता के बाद कल होगा फैसला

’>>मुख्यमंत्री ने कई मसलों पर दिया सकारात्मक पहल का आश्वासन

Category: News

About the Author ()

Comments are closed.