खर्च में कटौती के लिए आधे कर्मचारियों को रिटायरमेंट देने की तैयारी में BSNL

| September 4, 2019

बीएसएनएल के चेयरमैन ने कहा कि दूसरी टेलिकॉम कंपनियों की तरह BSNL को भी वित्तीय दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। पुरवार ने अपनी प्राथमिकताओं को गिनाते हुए कहा, ‘रेवेन्यू हमारी पहली प्राथमिकता है। ऑपरेशनल खर्च का प्रबंधन दूसरे नंबर पर है।’

हाइलाइट्स

  • BSNL चेयरमैन ने कहा, 70 से 80 हजार कर्मचारियों को वॉलंटरी रिटायरमेंट देने पर विचार
  • सरकार की मंजूरी के बाद आकर्षक पैकेज देकर रिटायर किए जाएंगे हजारों कर्मचारी
  • घाटे में चल रही सरकारी टेलिकॉम कंपनी रेवेन्यू जुटाने के लिए कई प्रयासों में जुटी

घाटे में चल रही सरकारी टेलिकॉम कंपनी भारत संचार निगम लिमिटेड (BSNL) एक तरफ जमीन किराये पर देकर पैसे जुटा रही है तो दूसरी तरफ खर्च में कटौती के लिए अपने आधे कर्मचारियों को वॉलंटरी रिटायरमेंट देने को तैयार है। सरकार से मंजूरी मिलते ही इन कर्मचारियों को एक आकर्षक पैकेज देकर रिटायर कर दिया जाएगा। BSNL के चेयरमैन प्रवीण कुमार पुरवार ने इकनॉमिक टाइम्स को दिए इंटरव्यू में यह बात कही है।








पुरवार ने एक सवाल के जवाब में कहा, ‘हम VRS प्रस्ताव पर विचार कर रहे हैं। हम 70 से 80 हजार कर्मचारियों को VRS देना चाहते हैं। इसे आकर्षक बनाया जाएगा ताकि उन्हें यह पंसद आए।’ इतने कर्मचारियों को रिटायर कर दिए जाने के बाद काम कैसे चलेगा? इसके जवाब में उन्होंने कहा, ‘तब हम काम चालने के लिए आउटसोर्सिंग करेंगे। लोगों को मासिक कॉन्ट्रैक्ट के आधार पर रखने का भी विकल्प होगा। अभी भी BSNL में बहुत कर्मचारी हैं। यदि 60 से 70 हजार भी VRS लेते हैं तो 1 लाख कर्मचारी बचेंगे।’




घाटे में चल रही सरकारी टेलिकॉम कंपनी भारत संचार निगम लिमिटेड (BSNL) एक तरफ जमीन किराये पर देकर पैसे जुटा रही है तो दूसरी तरफ खर्च में कटौती के लिए अपने आधे कर्मचारियों को वॉलंटरी रिटायरमेंट देने को तैयार है। सरकार से मंजूरी मिलते ही इन कर्मचारियों को एक आकर्षक पैकेज देकर रिटायर कर दिया जाएगा। BSNL के चेयरमैन प्रवीण कुमार पुरवार ने इकनॉमिक टाइम्स को दिए इंटरव्यू में यह बात कही है।




पुरवार ने एक सवाल के जवाब में कहा, ‘हम VRS प्रस्ताव पर विचार कर रहे हैं। हम 70 से 80 हजार कर्मचारियों को VRS देना चाहते हैं। इसे आकर्षक बनाया जाएगा ताकि उन्हें यह पंसद आए।’ इतने कर्मचारियों को रिटायर कर दिए जाने के बाद काम कैसे चलेगा? इसके जवाब में उन्होंने कहा, ‘तब हम काम चालने के लिए आउटसोर्सिंग करेंगे। लोगों को मासिक कॉन्ट्रैक्ट के आधार पर रखने का भी विकल्प होगा। अभी भी BSNL में बहुत कर्मचारी हैं। यदि 60 से 70 हजार भी VRS लेते हैं तो 1 लाख कर्मचारी बचेंगे।’
Source:- NBT

Category: BSNL, News

About the Author ()

Comments are closed.