रेलवे में यूनियन की मान्यता के चुनाव अब नवम्बर में होंगे

| August 2, 2019

रेलवे में यूनियन की मान्यता के लिए होनेवाला गुप्त मतदान अगस्त महीने में भी नहीं होगा। रेलवे बोर्ड ने 28 और 29 अगस्त को चुनाव कराने का प्रस्ताव दिया था। इसकी तैयारियां जोरशोर से चल रही थीं। लेकिन मॉडिलिटी तैयार नहीं होने के कारण गुरुवार को रेलवे बोर्ड के डायरेक्टर इस्टेब्लिसमेंट आलोक कुमार ने इस संबंध में सभी जीएम को पत्र लिख कर चुनाव टालने की घोषणा की।








पिछले दिनों रेलवे बोर्ड ने जोनल स्तर पर चुनाव के मद्देनजर नियमों की समीक्षा करने का आदेश दिया था। इससे पहले पूरे देश में एक साथ यूनियन मान्यता के लिए 26, 27 और 28 मार्च को वोटिंग कराने की घोषणा हुई थी। हालांकि लोकसभा चुनाव के कारण चुनाव को टालना पड़ा था। रेलवे में मान्यता प्राप्त यूनियनों का कार्यकाल छह वर्ष निर्धारित है।

2019 में जोनल स्तर पर और राष्ट्रीय स्तर पर चुनी गई यूनियन और फेडरेशन का कार्यकाल पूरा हो चुका है। मान्यता पाने के लिए धनबाद रेल मंडल में रस्साकसी तेज हो चुकी है। पूर्व मध्य रेलवे में पिछली बार कर्मियों ने ईस्ट सेंट्रल रेलवे कर्मचारी यूनियन को प्रतिनिधित्व के लिए चुना था। वर्ष 2013 में 25, 26 और 27 अप्रैल को मान्यता के लिए वोटिंग हुई थी।




नए रेलकर्मी को आईकार्ड दे रेलवे

रेलवे में सवा तीन लाख कर्मचारियों की छंटनी की योजना का विरोध शुरू हो गया। नेशनल फेडरेशन ऑफ इंडियन रेलवे के आह्वान पर दक्षिण-पूर्व जोन मेंस कांग्रेस सक्रिय हो गई। महासचिव एसआर मिश्रा के अनुसार शुक्रवार को टाटानगर व चक्रधरपुर मंडल समेत रांची, बोकारो, समेत जोन के अन्य स्टेशनों के हजारों रेलकर्मी काला बिल्ला लगाकर काम करेंगे। आंदोलन की योजना के लिए गुरुवार को बादामपहाड़-डांगुवापोसी सेक्शन समेत मेनलाइन के लगभग स्टेशन, यार्ड एवं विभागों में रेलकर्मियों संग मेंस कांग्रेस के ब्रांच पदाधिकारियों ने बैठक की है। रेलवे की योजना को लेकर दूसरे यूनियन एवं एसोसिएशन के सदस्य भी आक्रोशित हैं। .




रेलवे मान्यता चुनाव की प्रस्तावित तिथि 28 व 29 अगस्त थी .

तैयारी पूरी नहीं होने के कारण तिथि बढा दी गई : चुनाव संयोजक.

चक्रधरपुर संवाददाता.

Tags: , , ,

Category: Indian Railways

About the Author ()

Comments are closed.