महालक्ष्‍मी एक्‍सप्रेस में फंसे सभी यात्रियों को निकाला गया, लेने जाएगी विशेष ट्रेन

| July 27, 2019

भारी बारिश के कारण मुंबई एक बार फिर पानी-पानी हो गई है। लगातार हो रही बारिश से कई इलाकों में पानी भर गया है। मौसम विभाग ने शनिवार को भारी भारिश की चेतावनी जारी की है। ट्रैक पर पानी भरने के कारण महालक्ष्मी एक्सप्रेस में फंसे 700 यात्रियों को सुरक्षित निकाल लिया गया है। मुंबई से लगभग 55 किलोमीटर की दूरी पर पिछले 19 घंटों से यात्री फंसे हुए थे। NDRF की 4 टीमें ने 8 नावों की मदद से यात्रियों को निकाला।








एनडीआरएफ के महानिदेशक एसएन प्रधान ने बताया ‘9 गर्भवती महिलाओं सहित महिलाओं और बच्चों को पहले निकाला गया, उसके बाद बुजुर्ग लोगों को निकाला गया और अंत में पुरुष यात्रियों को। ऑपरेशन लगभग 8 बजे तक चला, लगभग 900 यात्रियों को सुरक्षित निकाल लिया गया है।’

वहीं, गृह मंत्री अमित शाह ने कहा है कि एनडीआरएफ, नौसेना, भारतीय वायुसेना, रेलवे और राज्य प्रशासन की टीमों ने महालक्ष्मी एक्सप्रेस में फंसे सभी 700 यात्रियों को सुरक्षित बचाया है। हम पूरे ऑपरेशन की बारीकी से निगरानी कर रहे थे। उन्होंने बचाव टीमों को बधाई दी है।




लड़की ने गांववालों को कहा थैंक्‍यू
ट्रेन में सवार यात्रियों की ग्रामीणों ने जिस तरह से मदद की, उसके लिए धन्यवाद कहा। एक लड़की ने मीडिया को बताया कि सेंट्रल रेलवे हमको कब से बोल रहा है इंजन आ रहा है। हम लोग दो घंटे से इंजन के लिए रुके हैं। जो लोग वृद्ध थे उनको चलने में दिक्कत आ रही थी, वह केवल इंजन के भरोसे रुके थे। हम लोग इतना रूट चलकर आए, लेकिन अभी तक इंजन रूट में नहीं आया।

लड़की ने बताया कि उन्होंने कई आपातकालीन नंबरों पर संपर्क किया लेकिन उन्हें किसी से मदद नहीं मिली। उन्होंने बताया कि गांव वाले नहीं होते, हमारी मदद नहीं होती इसलिए गांव वालों को सबको थैंक्यू, गॉड ब्लैस यू तुम नहीं होते तो हमारी मदद नहीं होती।




महालक्ष्मी एक्सप्रेस में फंसे यात्रियों को लाने के लिए 19 कोच वाली एक विशेष ट्रेन को भेजा जाएगा। ट्रेन महालक्ष्मी एक्सप्रेस के यात्रियों के साथ कल्याण से कोल्हापुर तक जाएगी। 30 से ज्यादा डॉक्टरों की टीम और एंबुलेंस मौके पर पहुंची हुई हैं। इसके अलावा 10 से ज्यादा बसों को यात्रियों को ले जाने के लिए लगाया गया है। मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस हालात पर नजर बनाए हुए हैं।

बाढ़ में फंसी महालक्ष्मी एक्सप्रेस की घटना पर सीएम देवेंद्र फडणवीस ने कहा है कि घटनास्थल पर नेवी की 7 टीमें, एयर फोर्स के 2 हेलिकॉप्टर मौजूद हैं। स्थिति नियंत्रण में है। बता दें कि सीएम देवेंद्र फडणवीस ने मुख्य सचिव को वंजानी जाकर व्यक्तिगत रूप से बचाव अभियान की निगरानी करेने का निर्देश दिया है।

लगभग 9 घंटे से महालक्ष्मी एक्सप्रेस में फंसे यात्रियों के बचाने के लिए नौसेना के 8 टीमों को लगाया गया है, जिसमें 3 गोताखोरों की टीम भी शामिल हैं। टीमों को बचाव सामग्री, नौकाओं और जीवन रक्षक जैकेट के साथ रवाना कर दिया गया है। इससे पहले हालात का जायजा लेने के लिए एक हेलिकॉप्टर के साथ नेवी के गोताखोरों की टीम को मौके पर भेजा गया था। बता दें कि ट्रेन मुंबई से लगभग 55 किलोमिटर की दूरी पर बदलापुर और वानगनी के बीच फंसी हुई है।

भारी बारिश और ट्रैक पर पानी भरने के कारण बदलापुर और वानगनी के बीच महालक्ष्मी एक्सप्रेस फंसी हुई है। ट्रेन में लगभग 700 यात्री मौजूद हैं। बचाव कार्य जारी है। आरपीएफ और सिटी पुलिस की टीमे घटनास्थल पर पहुंची गई हैं और फंसे हुए यात्रियों को बिस्किट और पानी वितरित किया जा रहा हैं।

मध्य रेलवे के मुख्य जनसंपर्क अधिकारी ने यात्रियों से अनुरोध करते हुए कहा है कि वे ट्रेन से नीचे न उतरें। ट्रेन ही सबसे सुरक्षित स्थान है। NDRF और अन्य आपदा प्रबंधन प्राधिकरणों के निर्देश की प्रतीक्षा करें।

महाराष्ट्र में भारी बारिश की वजह से यातायात पूरी तरह से प्रभावित हो गया है। मध्य रेलवे के मुताबिक अबतक 13 ट्रेनों को डायवर्ट किया गया, 6 को रोका गया है और 2 ट्रेनों को रद्द कर दिया गया है। उल्हास नदी का जलस्तर बढने के कारण अंबरनाथ में जल जमाव हो गया है।

मुंबई में भारी बारिश की वजह से शनिवार को 11 उड़ानों को रद् कर दिया गया है साथ ही आने वाले नौ विमानों को पास के हवाई अड्डों पर डायवर्ट कर दिया गया है। रद हुई उड़ानों में 7 विमान मुंबई एयरपोर्ट से उड़ान भरने वाले थे, जबकि 4 विमान यहां उतरने वाले थे। रद हुई 7 उड़ानों में 5 इंडिगो और एक-एक एयर इंडिया और अमिरात की हैं।इसके अलावां इंडिगो ने मुंबई के लिए अपनी तीन अन्य उड़ानों को भी रद किया है।

मुंबई और उसके आसपास के इलाकों में भारी बारिश से जनजीवन पूरी तरह से अस्त-व्यस्त हो गया है। मौसम विभाग ने मुंबई में अगले 24 घंटे में भारी से बहुत भारी बारिश की संभावना जताई है। भारी बारिश के कारण मौसम विभाग ने कई इलाकों में ऑरेंज अलर्ट भी जारी किया है। पिछले 24 घंटों के दौरान 150-180 मिलीमीटर बारिश दर्ज की गई है।

राजधानी मुंबई समेत ठाणे और रायगढ़ में भारी बारिश की संभावाना है। इसके पहले 26 और 28 जुलाई के लिए पालघर में रेड अलर्ट जारी किया जा चुका है। बता दें कि मॉनसून की विभिन्न स्थितियों के लिए रेड से लेकर ऑरेंज तक अलग-अलग अलर्ट जारी किए जाते हैं। इनमें ऑरेंज अलर्ट अधिकारियों को गंभीर स्थिति से निपटने के लिए तैयार रहने का सिग्नल होता है।

लोगों को सतर्क रहने के निर्देश 
मौसम विभाग ने भारी बारिश की आशंका के चलते लोगों को सतर्क रहने के लिए कहा है। क्योंकि ऐसी परिस्थिति में पुराने ढांचों या मकान की दीवार ढहने की घटना से इनकार नहीं किया जा सकता। बता दें कि राज्य में बीते दिनों दीवार गिरने की वजह से कई लोग घायल हो गए थे। ऐसे हादसे में कई लोगों की जान भी चली गई थी।

MUMBAI: All 1,050 passengers on board Kolhapur-bound Mahalaxmi Express were rescued on Saturday in a multi-agency operation nearly 17 hours after the train was stranded near Vangani in Thane district due to flooding on tracks following heavy rains.
Central Railway (CR) officials said all the passengers, including nine pregnant women, were rescued by 3 pm.
Union home minister Amit Shah praised the rescue teams and said the Centre was closely monitoring the situation.
Teams of National Disaster Response Force (NDRF), Navy, Air Force, Army, Railways and state administration rescued all the passengers, he tweeted.
“Kudos to the rescue teams for their exemplary effort,” he said.
The train had left Mumbai for Kolhapur on Friday night, but could not travel beyond Vangani, where it reached in the wee hours Saturday.
Talking to PTI, chief spokesperson of the CR Sunil Udasi said all 1,050 passengers were taken to a safe spot.
“A special train with 19 coaches will leave from Kalyan to Kolhapur with the affected passengers of the Mahalaxmi Express,” Udasi said.
Officials involved in the rescue operation said the nine pregnant women and a one-month-old baby girl were also safe.

Union minister of state for home affairs Nityanand Rai spoke to chief minister Devendra Fadnavis and assured him that all central assistance will be provided to the state, the Chief Minister’s Office (CMO) said in tweet earlier.

Category: News

About the Author ()

Comments are closed.