यह भी पढ़िए यह लेते हैं देश के लिए फैसले – जिले के कलेक्टर से मिली लाखों की काली कमाई

| July 11, 2019

सीबीआईने बुधवार को यूपी में बड़े अफसरों पर छापे मारे। इस दौरान लाखों की नकदी बरामद हुई। बुलंदशहर में जिलाधिकारी अभय सिंह के सरकारी आवास और कार्यालय पर सुबह 7 बजे 17 सदस्यीय टीम पहुंची।

आठ घंटे चली कार्रवाई में 49 लाख रुपये की नगदी और काफी दस्तावेज बरामद होने की चर्चा है। अभय सिंह के फतेहपुर में डीएम रहते खनन के घोटाले के मामले को लेकर सीबीआई की छापेमारी हुई है। इस मामले में कोई भी आधिकारिक बयान नहीं आया है। बुलंदशहर में किसी अधिकारी के यहां सीबीआई की यह पहली कार्रवाई है।








आजमगढ़ के सीडीओ का सरकारी आवास खंगाला : आजमगढ़ के सीडीओ देवीशरण उपाध्याय के आवास पर बुधवार की सुबह सीबीआई टीम ने छापा डाला। सपा शासनकाल में हुए अवैध खनन के मामले में हुई इस रेड में टीम हरबंशपुर स्थित उनके आवास से साढ़े पांच लाख रुपये भी बरामद किए गए। लगभग साढ़े सात घंटे तक गहन जांच पड़ताल के बाद टीम वापस लौट गई। प्रशासनिक अमले में बुधवार की सुबह साढ़े सात बजे उस वक्त हड़कंप मच गया जब जिले के मुख्य विकास अधिकारी देवी शरण उपाध्याय (आईएएस) के हरबंशपुर स्थित सरकारी आवास पर एक बोलेरो वाहन से पांच लोगों की टीम पहुंची। अंदर पहुंचते ही सीडीओ को टीम ने अपना परिचय पत्र दिखाते हुए कार्रवाई शुरू की। गार्ड को बाहर ही रहने के निर्देश दिए गए। इसके बाद टीम ने आवास पर रखे कागजात की पड़ताल शुरू की।




फतेहपुर के तत्कालीन डीएम व दो कारोबारियों पर कार्रवाई : सीबीआई ने फतेहपुर में दो मौरंग कारोबारियों के यहां एक साथ छापेमारी की। घोटाले के दौरान डीएम रह चुके बुलंदशहर के मौजूदा जिलाधिकारी अभय सिंह के कैंप कार्यालय में भी छापा मारा गया। केंद्रीय खुफिया एजेंसी की दो टीमों ने मौरंग कारोबारियों के आवासों में घंटों पड़ताल की और खनन अभिलेखों को साथ ले गई। .

बुधवार सुबह साढ़े सात बजे तेज बारिश के बीच सीबीआई की पांच-पांच सदस्यीय दो टीमें यहां पहुंचीं। एक टीम ने असोथर निवासी जिला पंचायत सदस्य सुखराज निषाद और दूसरी ने हरिहरगंज निवासी मौरंग कारोबारी शिव सिंह के आवास में छापेमारी की। अभय सिंह के कैंप कार्यालय में भी पड़ताल की। टीमों ने कारोबारियों से खनन क्षेत्रों के बारे में जानकारी ली।




1. सीबीआई ने 12 से अधिक अन्य शहरों को भी टारगेट कर रखा है। इन शहरों के खनन अधिकारियों-कर्मचारियों और खनन पट्टा धारकों से अब तक हुई पूछताछ के आधार पर इन आईएएस अधिकारियों के नाम सामने आए हैं।
2. यूपी के खनन घोटाले में शीर्ष ब्यूरोक्रेसी में हलचल पैदा हो गई है। आधा दर्जन से अधिक आईएएस अफसरों से पूछताछ और तीन आईएएस पर एफआईआर के बाद भी सीबीआई के निशाने पर दर्जन भर से अधिक आईएएस और हैं। इन पर जल्द ही कार्रवाई शुरू हो सकती है। केंद्र सरकार ने इसके लिए हरी झंडी दे दी है।
3. हाईकोर्ट ने अपने आदेश में कहा था कि खनन आवंटन घोटाले में जिलों में तैनात जिलाधिकारियों की भूमिका की जांच की जाए। सीबीआई ने जब से इस मामले में जांच शुरू की है अब तक आधा दर्जन आईएएस अधिकारियों से पूछताछ हो चुकी है। इसमें प्रमुख सचिव खनन रहे डॉ. गुरुदीप सिंह के साथ ही आईएएस भवनाथ सिंह, बी. चंद्रकला, संध्या तिवारी, अभय सिंह, विवेक सहित कुछ अन्य के नाम भी सामने आए थे।

Category: News

About the Author ()

Comments are closed.