Railway services might stall with the introduction of corporatization

| July 1, 2019

लगातार जारी डीरेका कर्मियों के विरोध प्रदर्शन से दिल्ली में भी हलचल शुरू हो गई है। हाल ही में चेयरमैन रेलवे बोर्ड की ओर से जारी पत्र में सभी सात उत्पादन इकाइयों के निगमीकरण की चर्चा के बाद से ही सभी इकाइयों के कर्मचारी आक्रोशित हैं। वहीं आल इंडिया रेलवे मेंस फेडरेशन के महामंत्री शिव गोपाल मिश्र ने जागरण से विशेष बातचीत में कहा कि अगर डीरेका या किसी अन्य इकाई को निगम का रूप देने की कोशिश की गई तो रेल रुक जाएगी। उन्होंने बताया कि रेलवे बोर्ड ने इस मुद्दे पर बीते सप्ताह बैठक बुलाई लेकिन अंत में रद कर दी थी। अब बोर्ड ने कर्मचारियों के दबाव में अगले सप्ताह मंगलवार को दोबारा इस विषय पर चर्चा के लिए आपात बैठक बुलाई है।








एआइआरएफ ने डीरेका कर्मचारियों के प्रदर्शन को पूर्ण समर्थन देने का ऐलान भी कर दिया है। केंद्रीय संगठन ने एक साथ सभी जोन व उत्पादन इकाइयों में एक जुलाई से छह जुलाई तक विरोध का आह्वान किया है। साथ ही एक जुलाई को ही डीरेका बचाओ संयुक्त संघर्ष समिति के साथ मिलकर काला दिवस मनाने का भी फैसला किया है। चरणबद्ध चलने वाले विरोध प्रदर्शन के लिए संयुक्त सभा के प्रमुख वीडी दुबे ने भी अपनी सहमति दे दी है।




पहले भी कर्मचारियों के आगे झुका है प्रशासन : कर्मचारियों का रोष पहली बार रेल प्रशासन के फैसले के खिलाफ नहीं बढ़ा है। इससे पूर्व साल 2016 में जब देबराय समिति की सिफारिश पर उत्पादन इकाइयों के निगमीकरण का जिन्न बाहर आया था, तब डीरेका कर्मचारियों ने एकजुट होकर पुरजोर विरोध कर प्रशासन की तेजी को ठंडा कर दिया था। विरोध के दौरान ही तत्कालीन रेल राज्य मंत्री मनोज सिन्हा का मंडुआडीह रेलवे स्टेशन पर घेराव कर दिया गया था।

मर्यादित रहता है डीरेका में विरोध: डीजल रेल कारखाना में कर्मचारियों का विरोध हमेशा से मर्यादित ही रहा है। छोटा हो या बड़ा किसी भी विरोध के दौरान कर्मचारियों ने परिसर में अनुशासन का माहौल बनाए रखने का ध्यान हमेशा रखा। इसकी बानगी बीते दिनों प्रदर्शन के दौरान एंबुलेंस व स्कूल बस को रास्ता देने के दौरान दिखा।




कैंट सीओ जीआरपी सेवानिवृत्त

जासं, वाराणसी : जीआरपी कैंट स्टेशन पर तैनात क्षेत्रधिकारी विमल किशोर श्रीवास्तव सेवानिवृत्त हो गए। उनकी जगह अभी सीओ जीआरपी के पद पर किसी की तैनाती नहीं की गई है। रविवार को प्रयागराज जीआरपी मुख्यालय से श्रीवास्तव को विदाई दी गई।

डीरेका में होगा ब्लैक आउट

जागरण संवाददाता, वाराणसी : डीरेका बचाओ संयुक्त संघर्ष समिति की बैठक में कर्मचारियों ने कई महत्वपूर्ण निर्णय लिए। समिति के प्रमुख वीडी दुबे ने बताया कि सोमवार शाम चार बजे डीरेका पूर्वी गेट पर जुलूस निकाला जाएगा। यह जुलूस प्रशासनिक भवन पर जाकर खत्म होगा। इसके बाद रात आठ बजे से आधे घंटे तक सभी डीरेका कर्मचारी अपने घरों की लाइट बंद कर ब्लैक आउट करेंगे।

’>>रेलवे बोर्ड ने मंगलवार को बुलाई आपात बैठक

’>>एआइआरएफ व अन्य यूनियनों का समर्थन, मनाएंगे काला दिवस

Category: News

About the Author ()

Comments are closed.