Three died in Kerala Express due to excessive heat

| June 11, 2019

केरला एक्सप्रेस की स्लीपर बोगी में सवार महिला समेत तीन यात्रियों की गर्मी के चलते मौत हो गई। एक साथ तीन यात्रियों की मौत की सूचना पर स्टेशन पर हड़कंप मच गया। ट्रेन के आते ही डिप्टी एसएस रेलवे डॉक्टर, आरपीएफ और जीआरपी के साथ मौके पर पहुंचे और यात्रियों का परीक्षाण किया। मृत तीन लोगों के शव कोच से उतारकर कब्जे में लिए साथ ही गंभीर चौथे यात्री को रेलवे अस्पताल में भर्ती कराया। मरने वाले सभी यात्री उम्रदराज थे। .








ग्वालियर पहुंचने पर चार यात्री बेहोश हुए: नई दिल्ली से चलकर त्रिरुअंतपुरम की ओर जा रही ट्रेन नम्बर 12626 के आरक्षित कोच में तमिलनाडु के 63 यात्रियों का एक ग्रुप घूमने के लिए आगरा आया हुआ था। सभी ने आगरा से कोयम्बटूर जाने के लिए केरला एक्सप्रेस के स्लीपर कोच एस-8 और एस-9 में आरक्षण कराया था। यात्रियों की मानें तो आगरा से ट्रेन में चढ़े पर चार यात्रियों की गर्मी से हालत बिगड़ने लगी। ग्वालियर स्टेशन पहुंचने पर सभी बेहोश हो गए। .

ट्रेन स्टाफ को दी जानकारी: यात्रियों ने ट्रेन में तैनात स्टॉफ को इसकी जानकारी दी। टीटीई ने झांसी कंट्रोल रूम को मैसेज कर एम्बुलेंस और डॉक्टर की व्यवस्था करने को कहा। झांसी में तीन नंबर प्लेटफार्म पर ट्रेन के पहुंचने पर पहले से मौजूद डॉक्टरों ने यात्रियों का चेकअप किया। जहां 65 वर्षीय बालकृष्णन राधास्वामी, 63 वर्षीय पचीअप्पा कमला, 76 वर्षीय देवीनाई को मृत घोषित कर दिया गया, जबकि 80 वर्षीय करनागौरी को रेलवे अस्पताल रेफर कर दिया है।

तमिलनाडु के 68 यात्रियों के ग्रुप में सभी अंग्रेजी और हिंदी नहीं जानते थे। तमिल बोलने के कारण जीआरपी एवं आरपीएफ को समझने में काफी दिक्कत हुई। यहां तक कि यात्री मृतकों के नाम भी सहीं से नहीं बता पा रहे थे। अंत में उनकी टिकट और सीट नंबर के आधार पर सभी की शिनाख्त की गई। .




‘ कोयम्बटूर जा रहे थे यात्री, आगरा से ही बिगड़ने लगी हालत.

‘ शव कब्जे में लेकर चौथे यात्री को रेलवे अस्पताल में भर्ती कराया.

हरदोई। सोमवार को लखनऊ-बरेली अप रूट पर बरेली की ओर जा रही राजरानी एक्सप्रेस की पैंट्री कार में अचानक आग लगने से हड़कंप मच गया। चालक ने ट्रेन को हरदोई रेलवे स्टेशन से पहले 10 किलमोटीर दूर मसीत रेलवे स्टेशन के पास रोका दिया। आग की वजह से इंजन में खराबी आने की वजह से करीब एक घंटे बाद ट्रेन में मालगाड़ी का इंजन लगाकर गंतव्य को रवाना किया गया।.




बाराबंकी। बहन व बहनोई के साथ मुम्बई जा रही एक युवती की ट्रेन में यात्रा के दौरान रविवार की देर रात संदिग्ध परिस्थितियों में मौत हो गई। संतकबीर नगर के खलीलाबाद निवासी चांदनी गुप्ता (24) पुत्री विश्वनाथ अपने जीजा जितेंद्र गुप्ता और बहन बिन्दुमती निवासी पचपौढरी थाना दुघरा संत कबीरनगर के साथ बांद्रा-मुज्जफरपुर एक्सप्रेस से स्लीपर क्लास से मुम्बई जा रही थी। जरवल स्टेशन के पास चांदनी ने पेट दर्द की शिकायत की फिर अचानक शांत होकर लेट गई। चिंतित पीड़ित बाराबंकी जंक्शन पहुंचे। स्ट्रेचर न मिलने पर वह चांदनी को कंधे पर लाद कर स्टेशन के बाहर आया। फिर एम्बुलेंस बुलाकर जिला अस्पताल पहुंचा। यहां डाक्टर ने चांदनी को मृत घोषित कर दिया और कहा कि उसकी मौत डेढ़ घंटा पहले हो चुकी है। मृतका के भाई से तहरीर लेकर पुलिस ने शव को बिना पीएम के उन्हें सौंप दिया। .

बलरई (इटावा)। बलरई स्टेशन पर सोमवार सुबह अवध एक्सप्रेस से उतरकर ट्रैक पर खड़े चार यात्रियों की राजधानी एक्सप्रेस की चपेट में आकर मौत हो गई। राजधानी को पास कराने के लिए अवध एक्सप्रेस को लूप लाइन पर खड़ा किया गया था। मरने वालों में दो चचेरे भाई व एक भतीजा शामिल हैं। सभी कौशांबी जिले के रहने वाले हैं। हादसे के बाद आधा घंटे तक ट्रैक भी बाधित रहा। इससे दोनों ओर से आने वाली ट्रेनें प्रभावित हुईं। बलरई स्टेशन पर प्लेटफार्म नंबर 3 की लूप लाइन पर सुबह 6.31 बजे मुजफ्फरपुर से बांद्रा टर्मिनल (मुंबई) जा रही 19040 अवध एक्सप्रेस को खड़ा किया गया। करीब आधे घंटे बाद 7 बजे मेन लाइन से 12313 राजधानी पास कराई जा रही थी। अवध एक्सप्रेस के चार यात्री उसकी चपेट में आ गए और चारों की मौके पर ही मौत हो गई। प्रत्यक्षदर्शियों ने बताया कि ट्रेन में गर्मी के कारण कई यात्री बोगी से उतरकर नीचे ट्रेक पर खड़े हो गए थे।.

Category: News

About the Author ()

Comments are closed.