प्लेन की तर्ज पर 500 ट्रेनों में लगाए जाएंगे ब्लैक बॉक्स

| June 7, 2019

मोदी सरकार की सत्ता वापसी के बाद रेलवे एक बार फिर टॉप गियर में आ गया है। रेलवे ने बाकायदा अगले कुछ साल में किए जाने वाले कार्यों का प्लान तैयार किया है।

हाइलाइट्स
  • मोदी सरकार के सत्ता में लौटने के बाद रेलवे टॉप गियर में
  • प्लेन की तर्ज पर 500 ट्रेनों में ब्लैक बॉक्स लगाने की योजना
  • अगले तीन साल के भीतर पूरा किया जाएगा यह प्रॉजेक्ट
  • ब्लैक बॉक्स से दुर्घटना के कारणों की मिलेगी सारी जानकारी








ड्राइवर की गतिविधियों का पता लग सकेगा.

ब्लैक बॉक्स तय करेगा कि सहायक ड्राइवर व ड्राइवर ट्रेन परिचालन नियमों का पालन करते हैं अथवा नहीं। रास्ते में ड्राइवर ने मादक पदार्थ का सेवन तो नहीं किया था या ड्राइवर झपकी तो नहीं ले रहा था। इसके अलावा प्रत्येक तीन मिनट में ड्राइवर हॉर्न बजाता है या नहीं। ब्लैक बॉक्स हादसे के बाद ट्रेन की रफ्तार, ब्रेक, ड्राइवर की गतिविधियों आदि का पता लगाना आसान करेगा।




मोदी सरकार की सत्ता वापसी के बाद रेलवे एक बार फिर टॉप गियर में आ गया है। रेलवे ने बाकायदा अगले कुछ साल में किए जाने वाले कार्यों का प्लान तैयार किया है। इस प्लान में सेफ्टी और इंफ्रास्ट्रक्चर को अहमियत दी गई है। इस प्लान में सबसे महत्वपूर्ण है कि रेलवे अगले 10 महीने के भीतर विमानों की तर्ज पर 500 ट्रेनों में ब्लैक बॉक्स लगाएगा। ये ब्लैक बॉक्स दुर्घटना होने की स्थिति में दुर्घटना के कारण जानने में अहम भूमिका निभाएगा। इस ब्लैक बॉक्स के जरिए न सिर्फ ट्रेन कर्मचारियों की ऑडियो बल्कि विडियो भी रेकॉर्ड होगी। इसके बाद अगले तीन साल में सभी ट्रेनों में ये ब्लैक बॉक्स लगाए जाएंगे।




इंडियन रेलवे के सूत्रों के मुताबिक हालांकि ब्लैक बॉक्स लगाने का प्लान पहले भी रेलवे के अजेंडे में रहा है, लेकिन अब उसे पूरी रफ्तार से लगाने की योजना बनाई गई है। रेलवे को लगता है कि ट्रेनों की सेफ्टी के लिहाज से यह महत्वपूर्ण भूमिका निभाएगा। इस सिस्टम के तहत न सिर्फ क्रू मेंबर यानी ट्रेन पायलट और उसके सहायक की आवाज बल्कि विडियो भी रेकॉर्ड होगी। इस तरह के सिस्टम का फायदा यह होगा कि न सिर्फ ट्रेन स्टाफ पूरी तरह से अलर्ट रहेगा बल्कि अगर छोटी या बड़ी दुर्घटना होती है तो दुर्घटना के कारणों का भी सटीक आकलन हो सकेगा।

रेलवे अधिकारियों का कहना है कि मंत्रालय ने नई सरकार के सत्ता में आने के बाद जो प्लान रेलमंत्री को दिया है, उसमें बताया गया है कि मार्च 2020 तक 500 ट्रेनों के इंजनों में ये ब्लैक बॉक्स लगा दिए जाएंगे जबकि अगले तीन साल में देश भर में चलने वाली सभी यात्री ट्रेनों में ये सिस्टम लगा दिया जाएगा। कुछ वक्त पहले इस तरह के 26 ब्लैक बॉक्स लगाए गए थे, जिन्हें एक तरह से ट्रायल के रूप में कुछ ट्रेनों में लगाया गया था लेकिन अब यह पहला मौका होगा जबकि इतनी बड़ी तादाद में ये ट्रेनों में लगाए जाएंगे।

प्रीमियम ट्रेनों में सीसीटीवी
रेलवे सूत्रों का कहना है कि हालांकि रेलवे बीते कुछ साल से लगातार सीसीटीवी लगाने का दावा कर रहा है। कुछ स्टेशनों पर सीसीटीवी लगाए भी गए हैं लेकिन अब रेलवे ने अपने प्लान में वादा किया है कि इस साल अगस्त से ही देश भर के 6124 रेलवे स्टेशनों पर सीसीटीवी लगाने का कार्य शुरू कर दिया जाएगा और एक साल में इसे पूरा कर लिया जाएगा। स्टेशनों के अलावा रेलवे प्रीमियम ट्रेनों यानी राजधानी, शताब्दी, दुरंतो और मुंबई की ईएमयू ट्रेनों के 7020 कोच में भी अगस्त से एक साल के भीतर सीसीटीवी लगा देगा।

Category: News

About the Author ()

Comments are closed.