Railway Doubles running allowance for its staff

| May 2, 2019

वित्त मंत्रालय ने ट्रेन गार्ड और लोको पायलट व सहायक लोको पायलट (ड्राइवर) का रनिंग भत्ता बढ़ाकर दोगुना कर दिया है। अब कर्मचारियों को प्रति किलोमीटर 5.25 रुपये भत्ता मिलेगा। अभी तक उन्हें ढाई रुपए प्रति किलोमीटर रनिंग भत्ता मिल रहा था। एक जुलाई 2017 से बढ़ा रनिंग भत्ता कर्मचारियों को मिलेगा। इससे पूरे रेलवे के 1.27 लाख कर्मचारी लाभान्वित होंगे। कर्मचारी इस मांग के लिए वर्षों से इसके लिए लड़ाई लड़ रहे थे।.








एनएफआईआर के महामंत्री डॉ. एम राघवैया एवं पूर्वोत्तर रेलवे कर्मचारी संघ के महामंत्री विनोद राय ने गत 13 अप्रैल को रेलवे बोर्ड से वार्ता की थी। इसके बाद रेलवे बोर्ड में 26 व 27 अप्रैल को हुई पीएनएम बैठक के बाद वित्त मंत्रालय ने रनिंग कर्मचारियों के भत्ते बढ़ाने को लेकर अपनी मंजूरी दे दी। .




सबसे पहले रनिंग कर्मचारियों को करीब 150 रुपये प्रति 100 किमी. के हिसाब से रनिंग भत्ता मिलता था। इसके बाद डीए बढ़ने पर उनको 230 रुपये तक रनिंग भत्ता दिया जा रहा था। लेकिन, अब वित्त मंत्रालय की मंजूरी के बाद पूरे भारतीय रेल में रनिंग कर्मचारियों को दोगुना भत्ता मिलेगा। सातवें पे कमीशन के मद्देनजर इनके रनिंग भत्तों में इजाफा हुआ है। मजदूर दिवस पर भारतीय रेल में रनिंग कर्मचारियों और एनएफआईआर की इस मुहिम को बहुत बड़ी जीत के रूप में देखा जा रहा है।.

उत्तर रेलवे में सबसे ज्यादा परेशानियां ट्रेनों के संचालन को लेकर आती है। ट्रेनों का समय पर न छूटना और समय पर न पहुंचना यात्रियों के लिए सबसे बड़ी मुसीबत है। इसके लिए उत्तर मंडल से चलने वाली ट्रेनें समय पर चलाई जाएंगी। वहीं, मृतक के परिवारीजनों को 30 दिन में नौकरी मिलेगी। यह बातें बुधवार को मंडल रेल प्रबंधक संजय त्रिपाठी ने कही। .




उन्होंने कहा कि अब कोई भी रेलकर्मी सीधे डीआरएम से मुलाकात करके अपनी समस्या बता सकेगा। डीआरएम ने कहा कि रेलवे में रेल यात्री सबसे महत्वपूर्ण है। रेलवे अधिकारियों से लेकर स्टाफ को यात्रियों से सौहार्दपूर्ण तरीके से व्यवहार करना सीखना होगा। यात्री रेल की सबसे बड़ी धरोहर है। .

डीआरएम ने बताया कि उन्होंने मंडल में ट्रेनों के संचालन से लेकर यात्री सुविधा को सात लक्ष्य में बांटा है। इसमें सुरक्षा, ट्रेनों का बेहतर संचालन, यात्री सुविधाएं, कर्मचारियों के हितों का ध्यान शामिल हैं। साथ ही रेलवे कालोनियों में रहने वाले कर्मचारियों के आवासीय स्थानों को सुधारा जाएगा। .

किसने क्या कहा:- 

लोको पायलट से ट्रेन संचालन में सुरक्षा मानकों की उम्मीद की जाती है। उनके हितों की अनदेखी हो रही थी। अब सम्मानजनक भत्ता मिलने से खुशी महसूस हो रही है। – अम्बिका मौर्य, लोको पायलट। .

रनिंग कर्मचारियों की यह लंबी प्रतीक्षित मांग थी। इसके लिए पूरे भारतीय रेलवे के गार्ड इंतजार कर रहे थे। भारत सरकार ने यह मांग पूरी कर दी है। इससे गार्डों में खुशी है। – दिलीप द्विवेदी, गार्ड। .

फेडरेशन ने रनिंग भत्ता 550 रुपये मांगा था। एनएफआईआर के दबाव में वित्त मंत्रालय ने कर्मचारियों को 525 रुपये भत्ता देने का निर्णय लिया है। मंत्रालय का यह कदम बहुत सराहनीय है।- आरके पांडेय, मंडल मंत्री, एनआरएमयू। 

Category: Indian Railways, News

About the Author ()

Comments are closed.