केंद्र सरकार इस तरह से कर्मचारियों के काम और परिवार में संतुलन बनाएगी

| April 30, 2019

पहले भी हो चुकी कोशिश, ट्रेनिंग का असर प्रमोशन पर भी, कर्मचारियों के परिवार के लिए कई तरह के कार्यक्रम आयोजित होंगे, नई ट्रेनिंग पॉलिसी को बनाया जाएगा कर्मचारियों के प्रमोशन का आधार,

केंद्र सरकार की पहल है कि सरकारी कर्मचारी अपने काम के साथ पारिवारिक जिंदगी में भी संतुलन बना कर रखें। इसके लिए सरकार ने सभी मंत्रालयों और विभागों से कहा है कि वे हर साल खाली समय या छुट्टी के दिन ऐसे कार्यक्रम आयोजित करें जिसमें कर्मचारियों की सहभागिता प्रभावी तरीके से हो सके। इससे वर्किंग कल्चर में भी बदलाव आएगा। सरकार का मानना है कि ऐसा करने से कर्मचारियों के काम करने की क्षमता न सिर्फ बेहतर होगी बल्कि उन्हें परिवार के अंदर से भी बेहतर काम करने के लिए जरूरी उत्साह मिलेगा। दरअसल केंद्र सरकार ने पिछले दिनों कर्मचारियों की ऑफिस और पारिवारिक जिंदगी के बीच संतुलन को जानने के लिए एक सर्वे किया था जिसमें यह बात सामने आई थी कि इस मोर्च पर बहुत असंतुलन है।







मनोरंजक कार्यक्रम करने की तैयारी

इसी कोशिश के तहत दिल्ली में 21-22 मई को केंद्रीय कर्मचारियों के परिजनों के लिए बड़ा आयोजन हो रहा है। कार्यक्रम में म्यूजिक-स्पोर्टस और बाकी कई मनोरंजक एक्टिविटी होंगी। इसमें कर्मचारियों को अपने परिवार को अधिक-से-अधिक शामिल करने के लिए कहा गया है। ऐसे ही आयोजन देश के दूसरे शहरों में भी होंगे।a इसके अलावा बच्चों के बेहतर करियर के लिए कोचिंग भी आयोजित करने की तैयारी की जा रही है। इसके लिए देश की टॉप कोचिंग एजेंसियों से भी संपर्क साधा गया है।




क्षमता को बढ़ाने पर है सरकार का फोकस
इससे पहले पिछले साल डिपार्टमेंट ऑफ पर्सनल एंड ट्रेनिंग ने सभी राज्यों के ग्रुप बी और ग्रुप सी के कर्मचारियों के लिए नई ट्रेनिंग पॉलिसी को पूरी लागू करने का सुझाव दिया था। विभाग ने ट्रेनिंग पॉलिसी को लागू करने से पहले देश के तीन राज्यों में इसे लागू कर रेस्पॉन्स देखने की कोशिश की थी। इसके अंतर्गत तमिलनाडु, जम्मू-कश्मीर और महाराष्ट्र के अफसरों और क्लर्क को दो चरणों में ट्रेनिंग दी गई थी। इसमें कर्मचारियों के वर्क कल्चर में बदलाव साफ दिखा था।




सरकार की मंशा है कि इस ट्रेनिंग में भाग लेना और इसके अनुरूप खुद में बदलाव लाने को प्रमोशन में सबसे बड़ा आधार बनाया जाए। विभाग के अनुसार ट्रेनिंग देने के लिए जो गाइडलाइंस बनाई गई हैं उस हिसाब से सरकारी कर्मी को पॉजिटिव रहने के भी कई गुर सिखाए जाएंगे। इसके तहत प्रेरणादायक फिल्में देखने के अलावा प्रेरणादायक किताबें पढ़ने का सुझाव दिया गया था। साथ ही परिवार और ऑफिस के बीच बैलेंस किस तरह हो इस बारे में भी विस्तार से व्यावहारिक तरीके से समझाया जाएगा।

Category: News

About the Author ()

Comments are closed.