ट्रेन टिकट रिजर्वेशन में रेलवे कर रहा है बड़ा बदलाव, 1 मई से लागू हो रहे हैं ये नियम

| April 28, 2019

रेलवे बुक किए गए टिकट पर यात्रा से महज 4 घंटे पहले तक बोर्डिंग स्टेशन बदलने, टिकट कैंसल करने पर रिफंड जैसे कई नियमों में बड़े बदलाव कर रहा है। बदले हुए नए नियम 1 मई से लागू हो जाएंगे।








रेलवे की तरफ से यात्रियों की सुविधा के लिए एक बड़ा कदम उठाया जा रहा है। रेल यात्री अब टिकट बुकिंग कराने के बाद अपनी यात्रा शुरू करने का स्टेशन बदल सकेंगे। 1 मई से बोर्डिंग स्टेशन को बदलने की प्रक्रिया भी पहले की तुलना में आसान हो जाएगी। पहले यात्री बोर्डिंग स्टेशन को यात्रा की तारीख से 24 घंटे पहले ही बदल सकते थे। अब रेलवे ने यात्रियों को चार्ट तैयार होने से महज 4 घंटे पहले तक यात्रा शुरू करने का स्टेशन बदलने की अनुमति देगा।




वहीं, यदि आप बोर्डिंग स्टेशन में बदलाव के बाद भी यात्रा नहीं करते हैं और टिकट को कैंसल कराते हैं तो आपको रिफंड के रूप में कोई पैसा नहीं मिलेगा।  रेल अधिकारियों का कहना है कि कई बार यात्री की प्लान में अंतिम समय में बदलाव हो जाता है। इससे उनके पास टिकट कैंसल कराने के अलावा कोई विकल्प नहीं बचता है। ऐसे में यात्रियों की सुविधा को देखत हुए रेलवे ने 24 घंटे की अवधि की घटाकर 4 घंटे कर दिया है। इससे टिकट कैंसल कराने की संख्या में कमी आएगी।




मौजूदा नियमों के अनुसार टिकट बुकिंग कराने वाले यात्री ट्रेन के प्रस्थान करने के समय से 24 घंटे पहले तक बोर्डिंग स्टेशन में बदलाव कर सकते थे। इसमें एक शर्त है कि यदि यात्री ने अपने बोर्डिंग स्टेशन में बदलाव कर दिया है तो फिर वह अपने पुराने बोर्डिंग स्टेशन से ट्रेन पर सवार नहीं हो सकता है। यदि रेल यात्री बोर्डिंग स्टेशन में बदलाव करने के बाद भी पुराने बोर्डिंग स्टेशन से यात्रा कर रहा है तो उसे पुराने और नए बोर्डिंग स्टेशन के बीच के अंतर के किराये का भुगतान करना होगा।

यात्रियों के द्वारा बोर्डिंग स्टेशन में सिर्फ एक बार ही बदलाव किया जा सकता है। रेलवे नियमों के अनुसार यदि यात्री का टिकट सीज कर दिया गया है तो ऐसी स्थिति में बोर्डिंग स्टेशन में बदलाव करना संभव नहीं होगा। रेलवे विकल्प ऑप्शन लेने वाले पीएनआर नंबर पर बोर्डिंग प्वाइंट को चेंज करने की सुविधा नहीं देता है।

Source:- JanSatta

Category: Indian Railways, News

About the Author ()

Comments are closed.