Railway to give these facilities in Shatabdi Express Trains

| April 26, 2019

अमृतसर शताब्दी एक्सप्रेस (12031/12032) में तेजस एक्सप्रेस के रैक लगाए गए हैं। गत दिवस तेजस के रैक का दिल्ली से सोनीपत के बीच ट्रायल किया गया था और बृहस्पतिवार को इसे शताब्दी एक्सप्रेस में लगा दिया गया है। नई सुविधाओं से युक्त इस ट्रेन में सफर करने वाले यात्रियों को अतिरिक्त किराया भी नहीं देना पड़ेगा। शताब्दी के किराये पर ही वह तेजस की सुविधा ले सकेंगे। फिलहाल दो महीने के लिए यह व्यवस्था है।








शताब्दी के पुराने कोच की तुलना में तेजस के कोच में सफर ज्यादा आरामदायक होगा। शताब्दी के पुराने कोच में चेयरकार की 938 सीटें थीं जो अब बढ़कर 1092 हो गई हैं। वहीं इकोनॉमी क्लास में 92 सीटें होती थीं जो अब 112 हो गई हैं। इस ट्रेन में एसी चेयरकार के 14 और 2 इकोनॉमी क्लास के कोच होंगे। रेलवे अधिकारियों का कहना है कि भविष्य में शताब्दी ट्रेनों में वंदे भारत एक्सप्रेस के रैक लगेंगे।




दिल्ली से दो तेजस एक्सप्रेस हैं प्रस्तावित: बजट में नई दिल्ली से चंडीगढ़ और आनंद विहार से लखनऊ के बीच तेजस एक्सप्रेस चलाने की घोषणा की गई है। तेजस एक्सप्रेस का रैक भी दिल्ली में पहुंच गया है, लेकिन दोनों नई ट्रेनें शुरू नहीं हुई हैं। फिलहाल इस रैक का इस्तेमाल अमृतसर शताब्दी में किया

जा रहा है।




नई दिल्ली रेलवे स्टेशन से रवाना होने के लिए खड़ी अमृतसर शताब्दी एक्सप्रेस में लगा तेजस एक्सप्रेस का कोच ’ जागरण

तेजस एक्सप्रेस में उपलब्ध सुविधाएं

’ आग से बचने के लिए सेंसर लगाए गए हैं।

’ प्रत्येक कोच में सीसीटीवी लगे हुए हैं।

’ एलईडी स्क्रीन पर ऑन डिमांड एंटरटेनमेंट की सुविधा है।

’ आधुनिक जैविक शौचालय, सीटें ज्यादा आरामदायक हैं।

’ दूष्टिबाधित लोगों के लिए ब्रेल लिपि का उपयोग।

’ डिब्बों के दरवाजे मेट्रो की तरह खुद बंद होते व खुलते हैं।

’ तेजस एक्सप्रेस को 200 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से चलाया जा सकता है। इससे लोगों का समय बचेगा।

अमृतसर शताब्दी में नई सुविधाएं, नहीं लगेगा अतिरिक्त किराया

938 सीटें थीं चेयरकार की जो अब बढ़कर 1092 हो गई हैं

92 सीटें इकोनॉमी क्लास में होती थीं जो अब 112 हो गई हैं

Category: Indian Railways, News

About the Author ()

Comments are closed.