LHB Coach the saves many lives in Purva Express train accident

| April 21, 2019

पूर्वा एक्सप्रेस के 12 डिब्बे शनिवार को पटरी से उतरने के बाद भी न तो किसी यात्री की जान गई और न ही अधिक यात्री घायल हुए जबकि केवल उप्र में पुराने ट्रेन हादसों का ही इतिहास देखें तो प्रत्येक ट्रेन हादसा कुछ न कुछ यात्रियों की जान जरूर लेता था।इस बारे में जब रेल अधिकारियों से बात की गई तो जानकारी मिली कि ‘‘पूर्वा ट्रेन‘‘ में देश में ही निर्मित अत्याधुनिक लिंक हॉफमेन बुश (एलएचबी) कोच लगे हुए थे जो मजबूत स्टेनलेस स्टील के बने होते है हल्के होते है और ट्रेन के पटरी से उतरने या टक्कर होने पर यह कोच एक दूसरे पर चढ़ते नहीं हैं।








जबकि ट्रेनों के पुराने कोच (सीवीसी) पटरी से उतरने पर या दूसरी ट्रेन से टकराने से डिब्बे एक-दूसरे पर चढ़ जाते थे और भारी जान माल का नुकसान उठाना पड़ता था।उप्र में अक्टूबर 2018 में न्यू फरक्का एक्सप्रेस के नौ डिब्बे रायबरेली के पास पटरी से उतरे और सात यात्रियों की मौत हुई तथा कई घायल हुए।




अगस्त 2017 में औरैया में पटरी से डिब्बे उतरने से 100 यात्री घायल हुए थे। रायबरेली में मार्च 2015 में जनता एक्सप्रेस के हादसे में 58 यात्रियों की मौत हुई थी तथा 100 यात्री घायल हुये थे। जुलाई 2011 में फतेहपुर के पास कालका एक्सप्रेस हादसे में 70 की मौत हुई थी तथा 300 यात्री घायल हुये थे।




रिसर्च डिजाइन्स ऐंड स्टैंडर्डस ऑर्गनाइजेशन (आरडीएसओ) ने ऐसे कोच बनाये है, जो आपस में टकरा न सकें। इन्हें लिंक हॉफमेन बुश (एलएचबी) कोच नाम दिया गया। एलएचबी कोचों और सीबीसी कपलिंग होने से ट्रेन के कोचों के पलटने और एक दूसरे पर चढने की गुंजाइश नहीं रहती है। यह अत्याधुनिक कोच फिलहाल देश की 30 प्रतिशत वीआईपी ट्रेनों में ही लगे हैं।

Category: Indian Railways, News, Uncategorized

About the Author ()

Comments are closed.