PPF: अकाउंट खोलने से लेकर ब्याज, टैक्स और निकासी तक, जानें सारे सवालों के जवाब

| April 18, 2019

पब्लिक प्रविडेंट फंड (पीपीएफ) निवेश के लिए उपलब्ध सबसे बेस्ट रिटायरमेंट स्कीम्स में से एक है। पीपीएफ में निवेश करने से न केवल टैक्स बचता है बल्कि इससे एक स्थाई इनकम भी होती है। 15 साल के लॉक-इन पीरियड के साथ पीपीएफ एक बढ़िया रिस्क-फ्री ऑप्शन है।

पब्लिक प्रविडेंट फंड (पीपीएफ) निवेश के लिए उपलब्ध सबसे बेस्ट रिटायरमेंट स्कीम्स में से एक है। पीपीएफ में निवेश करने से न केवल टैक्स बचता है बल्कि इससे एक स्थाई इनकम भी होती है। 15 साल के लॉक-इन पीरियड के साथ पीपीएफ एक बढ़िया रिस्क-फ्री ऑप्शन है। आप PPF में 1.5 लाख रुपये तक एक साल में डिपॉजिट कर सकते हैं और इस पर 8 प्रतिशत की दर से ब्याद कमा सकते हैं। यह ब्याज हर साल मूलधन में जुड़ जाता है और हर वित्त वर्ष के आखिर में क्रेडिट होता है। स्कीम में EEE टैक्स बेनिफिट भी मिलता है। पीपीएफ में निवेश किए गए प्रिसिंपल अमाउंट पर सेक्शन 80सी के तहत टैक्स छूट मिलती है और ब्याज के साथ मैच्योरिटी पर पैसा निकालने पर यह टैक्स-फ्री रहता है।








कैसे खोलें पीपीएफ अकाउंट?
सरकार ने कुछ पोस्ट ऑफिस और कुछ बैंकों को पीपीएफ अकाउंट खोलने का अधिकार दे रखा है। आप इन निश्चित पोस्ट ऑफिसों या बैंक शाखाओं में जाकर अपना अकाउंट खुलवा सकते हैं। कुछ बैंक ऑनलाइन अकाउंट खोलने की भी सुविधा दे रहे हैं। ऐसे बैंकों में आप घर बैठे भी पीपीएफ अकाउंट खोल सकते हैं। आप चाहें तो 100 रुपये के साथ ही पीपीएफ खाता खुलवा सकते हैं।




डोरमैंट अकाउंट में क्या होता है?
किसी वित्त वर्ष में कोई भी डिपॉजिट मिस होने पर अकाउंट डीएक्टिवेट हो जाएगा। इसके बाद अकाउंट दोबारा चालू कराने के लिए लिखित ऐप्लिकेशन के साथ 50 रुपये की पेनल्टी देनी होगी। यह पेनल्टी हर डिफॉल्ट इयर के लिए होगी और इसके साथ अकाउंट में कम से कम 500 रुपये डिपॉजिट भी कराने होंगे। अकाउंट के डोरमैंट होने पर भी इसमें मौजूद बैलेंस पर सालाना ब्याज मिलता रहेगा। अकाउंट होल्डर मच्योरिटी डेट आने तक या आंशिक निकासी करने पर भी अकाउंट बंद नहीं कर सकता है।




पीपीएफ अकाउंट में पैसे जमा करने का सबसे सही समय कब?
अगर आप पीपीएफ में निवेश करना चाहते हैं तो हर महीने का 5 तारीख काफी महत्वपूर्ण है। आपको पीपीएफ अकाउंट में 1 से 5 तारीख तक हर हाल में पैसे डाल देना चाहिए। दरअसल, पीपीएफ में ब्याज का आकलन हर महीने की 5 तारीख तक अकाउंट के मिनिमम बैलेंस पर किया जाता है। अगर आप हर महीने की 5 तारीख तक पैसे डाल देते हैं तो आपका मिनिमम बैलेंस बढ़ जाता हैऔर आपको ज्यादा ब्याज मिलते हैं।

Category: News

About the Author ()

Comments are closed.