खुशखबरी – अंतिम वेतन के अनुसार मिलेगी पेंशन

| April 3, 2019

खुशखबरी अंतिम वेतन के अनुसार मिलेगी पेंशन

लाखों कर्मचारियों को बड़ा लाभ देते हुए सुप्रीम कोर्ट ने सोमवार को केरल हाईकोर्ट के आदेश के खिलाफ दायर याचिका खारिज कर दी। इसमें ईपीएफओ के 2014 के संशोधन को निरस्त करने को चुनौती दी गई थी। इसं संशोधन में कर्मचारी की अधिकतम पेंशन 15000 रुपये प्रतिमाह तय कर दी गई थी। इस संशोधन के निरस्त होने के बाद अब कर्मचारी को पेंशन उसके अंतिम वेतन के आधार पर मिलेगी। .








मुख्य न्यायाधीश रंजन गोगोई की अध्यक्ष्ता वाली तीन जजों की पीठ ने ईपीएफओ की इस याचिका को संक्षिप्त सुनवाई के बाद खारिज कर दिया। कोर्ट ने कहा कि इस याचिका में हमें कोई मेरिट नजर नहीं आती। .

हाईकोर्ट ने गत अक्तूबर में एक याचिका के आधार पर ईपीएफओ के 2104 के संशोधन को निरस्त कर दिया था जिसमें कर्मचारी की अधिकतम पेंशन 15000 रुपये प्रतिमाह निर्धारित कर दी गई थी। कोर्ट ने कहा था कि कर्मचारी जो अपने वास्तविक वेतन के अनुसार योगदान दे रहा है, उसे उसके योगदान से बिना किसी कारण के वंचित किया जा रहा है। आज के समय 15000 रुपये की पेंशन तय करना अनुचित है, बुढ़ापे में कर्मचारी इस रकम से अच्छा जीवन यापन नहीं कर सकता। .








इससे पहले सुप्रीम कोर्ट एक और फैसले में मूल वेतन और स्पेशल अलाउंस को मिलाकर पीएफ अंशदान तय करने का फैसला भी दे चुका है। हालांकि इसका लाभ 15 हजार रुपये तक वेतन वालों को ही मिलेगा।.

‘ सुप्रीम कोर्ट ने हाईकोर्ट के आदेश के खिलाफ याचिका रद्द की.

‘ कोर्ट ने कहा, वास्तविक वेतन के अनुसार पेंशन दी जाए.

Category: News

About the Author ()

Comments are closed.