परीक्षा पास करने के बाद ट्रेनिंग के लिए तरस रहे Railway Group D कर्मचारी, प्रमोशन रुका

| March 24, 2019

रेल प्रशासन कर्मचारियों ( railway group d employee ) के भविष्य के साथ खिलवाड़ कर रहा है। मंडल में गार्ड की कमी है। इसको पूरा करने के लिए पूर्वोत्तर रेलवे लखनऊ मंडल ने लिखित परीक्षा भी कराई। परीक्षा में पास होने वाले कर्मियों को ट्रेनिंग पर भेजना था। करीब छह महीने बीत चुके हैं, लेकिन कर्मियों को ट्रेनिंग पर नहीं भेजा गया है। इससे ग्रुप डी कर्मियों का प्रमोशन रुक गया है। कर्मियों में इसको लेकर काफी रोष है।







लखनऊ मंडल में गार्ड की भारी कमी है। मेल और पैसेंजर ट्रेनों के लिए लगभग गार्ड पूरे हैं, लेकिन मालगाड़ियों को चलाने के लिए गार्ड नहीं है। ट्रैफिक इंस्पेक्टर मेमो देकर प्वाइंट्स मैन और शंटमैन से ट्रेनों का संचालन करा रहे हैं। इससे निपटने के लिए मंडल के कार्मिक विभाग और वरिष्ठ मंडल परिचालन प्रबंधक अधिकारियों ने 94 गुड्स गार्ड की रिक्तियों को लेकर सीमित विभागीय लिखित परीक्षा अगस्त 2018 में आयोजित कराई। लेकिन, अभी तक गार्ड ट्रेनिंग पर नहीं जा सके हैं।



अगस्त में परीक्षा और जनवरी में परिणाम
लखनऊ मंडल में गार्ड की कर्मियों को लेकर पिछले वर्ष 4 अगस्त, 11 अगस्त और 18 अगस्त को लिखित परीक्षा आयोजन हुआ। इस परीक्षा में लखनऊ मंडल से ग्रुप डी के 243 कर्मी परीक्षा में शामिल हुए। इसमें से 91 गार्ड ने परीक्षा पास की। इसका परिणाम रेलवे अधिकारियों ने जनवरी 2019 को निकाला। इसके बाद भी इन्हें अभी तक ट्रेनिंग पर नहीं भेजा गया। जबकि, पहले कर्मियों की ट्रेनिंग मुजफ्फरपुर होती थी, लेकिन अब कर्मियों को गाजीपुर ट्रेनिंग के लिए भेजा जाना है।




गुड्स से पैसेंजर गार्ड बन जाते
दो साल पहले यह विभागीय परीक्षा आयोजित होनी थी। लेकिन, परीक्षा टल जाने से कर्मियों को यह मौका नहीं मिला। अगर, परीक्षा का आयोजन सही समय पर होता तो गुड्स ट्रेनों में यह भर्ती गार्ड प्रमोशन पाकर पैसेंजर ट्रेन में गार्ड बन जाते।

एके वर्मा (मंडल मंत्री, एनई रेलवे मेन्स यूनियन – नरमू) ने कहा- ग्रुप डी कर्मियों को ट्रेनिंग पर भेजने में प्रशासन का अड़ंगा है। इसके लिए डीआरएम, सीनियर डीआरएम को पत्र भी लिखा गया है। मंडल में गार्ड की कमी है। वहीं, ग्रुप डी कर्मचारी भी नहीं है। इसलिए प्रशासन कर्मियों को ट्रेनिंग पर भेजने के लिए देरी कर रहा है। एडीआरएम से वार्ता हुई है। जल्द ही फैसला होगा।

Category: Indian Railways, News

About the Author ()

Comments are closed.