Railway to introduce train scan system on platforms

| March 6, 2019

ट्रेनों के चलने, कोच की स्थिति और सफाई आदि की पलक झपकते ही जानकारी एकत्रित करने की योजना बनी है। रेलवे ने इसके लिए डेटा लॉगर (डेटा रिकॉर्डर) तैयार किया है। देश की 41 प्रमुख ट्रेनों में इसे लगाया जाएगा। प्लेटफार्म पर पहुंचते ही इंजन समेत पूरी ट्रेन स्कैन हो जाएगी। सिस्टम इसकी जानकारी रेलवे अधिकारियों तक भेज देगा। इसके माध्यम से यात्रियों को ट्रेन संचालन से जुड़ी सही जानकारी उपलब्ध कराई जाएगी।








रेलवे में अभी भी तमाम काम मैनुअल सिस्टम से होते हैं, जिसके चलते यात्रियों को सटीक जानकारी नहीं मिल पाती। वर्तमान में कोच की खराबी पकड़ने के लिए यार्ड व प्लेटफार्म पर कर्मचारी तैनात होते हैं। इंजन के पीछे कौन सा कोच लगा है। इसके लिए अलग कर्मचारी तैनात होते हैं। इसी तरह सफाई, एसी खराब की जांच के लिए अलग कर्मचारी होते हैं, जो जांच कर पकड़ते हैं या फिर यात्री के सूचना देने पर ठीक किया जाता है। रेल प्रशासन ने मैनुअल सिस्टम को खत्म करने के लिए डेटा लॉगर (डेटा रिकॉर्डर) सिस्टम तैयार किया है। इस सिस्टम के चालू होने के बाद प्लेटफार्म पर ट्रेन के आते ही कोच अंदर व बाहर से स्कैन हो जाएगा। इंजन के पीछे कितने कोच लगे हैं। अधिकारियों को कोच में खराबी, गंदगी आदि की जानकारी ट्रेन रुकते ही मिलने लगेगी।








कंट्रोल रूम से जुड़ेगा सिस्टम : डेटा लॉगर्स उपकरण को आप्टिकल फाइबर केबिल के माध्यम से जोड़ा जाएगा, जो कंट्रोल रूम से जुड़ेगा। कंट्रोल रूम का सिस्टम यात्रियों व अधिकारियों को सूचना देने का काम करेगा। इस व्यवस्था के चालू होने के बाद मैनुअल सिस्टम से निगरानी बंद हो जाएगी।

अगले वित्तीय वर्ष में लग जाएगा सिस्टम : रेलवे ने प्रथम चरण में देश के 41 प्रमुख स्टेशनों पर डेटा लॉगर्स सिस्टम लगाने की स्वीकृति दी है। कुछ स्टेशनों पर लगाने का काम शुरू किया जा चुका है। वित्तीय वर्ष 2019-2020 में मुरादाबाद रेल मंडल में यह सिस्टम लगाया जाएगा।

Category: Indian Railways, News

About the Author ()

Comments are closed.