BREAKING लोकसभा चुनाव के पहले मोदी सरकार ने कर्मचारियों को दे दी खुशखबर, बढ़ गया इनका वेतन

| March 2, 2019

तलाम। केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार ने 2003-04 से जिस मांग के लिए कर्मचारी लड़ाई लड़ रहे थे, उसको मंजूर कर दिया है। कर्मचारी चाहते थे कि उनका वेतन बढ़ाया जाए। इस मांग को मंजूर करते हुए भत्ते में बढ़ोतरी कर दी गई है। अब तक जिस मामले में 2700 रुपए का भत्ता मिलता था, वो अब सीधे बढ़कर 6000 हजार रुपए हो गया है। सरकार के इस निर्णय से रतलाम में 5 हजार तो देशभर में 10 लाख कर्मचारियों को सीधे लाभ होगा।







रेलवे ने रतलाम सहित देशभर में गेट पर काम करने वाले पेट्रोलिंग करने वाले कर्मचारी, कीमैन, मैट व गेटमैन को आने वाले दिनों में हार्डरिस्क भत्ता अधिक मिलेगा। रेलवे बोर्ड ने मंजूर देते हुए इसी माह से देने के आदेश जारी कर दिए है। आदेश से मंडल में करीब 5 हजार कर्मचारियों को लाभ होगा। ये भत्ता 2700 है, जो बढ़कर 6000 हजार प्रतिमाह होगा। रेलवे के अनुसार इससे 222 करोड़ रुपए का भार पश्चिम रेलवे में आएगा।




लंबे समय से हो रही थी मांग

लंबे समय से रेलवे का ये वर्ग अपने हार्डरिस्क भत्ते को बढ़ाने की मांग कर रहा था। इनका कहना था कि वे जोखिम वाला काम करते है। इसके बदले उनको अन्य कर्मचारियों के मुकाबले काफी कम भत्ता मिलता है। सातवे वेतन आयोग में भी इनके भत्ते को बढ़ाने के बारे में निर्णय नहीं हो पाया था व आयोग ने वित्त समिति के पास भेज दिया था। कर्मचारी व उनसे जुडे़ संगठन इसकी लड़ाई लड़ रहे थे कि उनका भत्ता बढ़ाया जाए।



इसलिए कर रहे थे मांग
असल में इन कर्मचारियों का कहना था कि वे ट्रैक से लेकर गेट तक पर सबसे अधिक जोखिम वाला काम करते है। जबकि उनको अन्य कर्मचारियों के मुकाबले वेतन से लेकर भत्ता तक कम मिलता है। सातवे वेतन आयोग ने इनकी मांग को मंजूर तो किया, लेकिन इस मंजूरी का भी इनको लाभ नहीं मिल पाया। गेटमैन, कीमैन, मेट आदि को 2700 हार्डरिस्क भत्ता मिलता है। ये बढ़कर 6 हजार हो जाएगा। गेटमैनपीवे को भत्ता 1 हजार से बढ़कर 4100 रुपए हो जाएगा। जबकि पीवे खलासी को 2700 रुपए के अलावा 6 हजार रुपए मिलेंगे। इसी प्रकार पेट्रोलिंग करने वाले कर्मचारी को भी 2700 रुपए से बढ़कर 6 हजार रुपए मिलेंगे।

Category: Indian Railways, News

About the Author ()

Comments are closed.