Railway to three-four trains simultaneously between two stations

| February 19, 2019

दो स्टेशनों के बीच एक साथ चलेंगी तीन-चार ट्रेनें : गोयल, तीन स्वदेशी कंपनियां विकसित कर रही हैं मूविंग ब्लॉक सिग्नल सिस्टम








देश में मौजूदा रेललाइनों पर अधिक ट्रेनें चलाने के लिए सिग्नल सिस्टम को बेहतर करने की भरपूर कोशिश की जा रही है। इसके लिए मूविंग ब्लॉक सिग्नल पण्राली को लाने का काम किया जा रहा है। इससे दो स्टेशनों के बीच एक ही लाइन पर तीन से चार ट्रेनें चलाई जा सकेंगी। लिहाजा अधिक ट्रेनें चलने से यात्रियों की मांग पूरी की जा सकेगी। इस सिस्टम पर तीन स्वदेशी कंपनियां तेजी से काम रही हैं। इनमें दो कंपनियों ने प्रगति की है।




रेल मंत्री पीयूष गोयल ने ‘‘राष्ट्रीय सहारा’ से बातचीत में कहा कि आजादी के बाद से रेलवे में बुनियादी ढांचागत विकास में केवल 30 प्रतिशत वृद्धि हुई है। लेकिन इस अवधि में रेलवे पर यात्रियों और मालगाड़ियों का दबाव 1300 से 1500 प्रतिशत तक बढ़ा है। लिहाजा रेलवे में तकनीकी तौर पर क्षमता बढ़ाने की जरूरत है। अभी दो स्टेशनों के बीच अगर ट्रेनें चल रही हैं, तो जाहिर है कि जब तक पहली ट्रेन स्टेशन नहीं पहुंची है तो दूसरी ट्रेन नहीं छोड़ी जाती हैं।




इसलिए ही मूविंग ब्लॉक सिग्नल लाने की तैयारी चल रही है। ऐसा होने से दो स्टेशनों के बीच तीन-चार ट्रेनें आगे-पीछे चलाई जा सकेंगी। इससे मौजूदा लाइनों पर ज्यादा ट्रेनें चलेंगी। गोयल ने बताया कि रेलवे बोर्ड ने एक वर्ष तक सभी पहलुओं से रेलवे की क्षमता बढ़ाने के लिए योजना बनाई है।

इसके तहत रेल लाइनों के दोहरीकरण, तिहरीकरण, विद्युतीकरण का काम तेजी से किया जा रहा है। कई शहरों के स्टेशनों पर ट्रेनों के अधिक दबाव होने के कारण ट्रेनों का बाईपास सिस्टम बनाया जा रहा है। इस तरह से 222 स्टेशन चिह्नित किए गए हैं। 

Category: Indian Railways, News

About the Author ()

Comments are closed.