कर्मचारियों का जल्द बनेगा पेंशन कार्ड, वित्त और श्रम मंत्रालय योजना की रूपरेखा तैयार कर रहे

| February 7, 2019

वित्त मंत्री पीयूष गोयल के बजट में असंगठित क्षेत्र के कामगारों के लिए पेंशन के ऐलान के बाद से वित्त मंत्रालय और श्रम मंत्रालय के अधिकारियों ने मिलकर योजना की रूपरेखा तैयार करनी शुरू कर दी है। .

सूत्रों के जरिए ‘हिन्दुस्तान’ को मिली शुरुआती जानकारी के मुताबिक, सरकार इन कामगारों के लिए एक पेंशन रजिस्ट्रेशन नंबर वाला कार्ड जारी कर सकती है। इसके जरिये न सिर्फ उनके पेंशन का रजिस्ट्रेशन हो जाएगा, बल्कि दूसरी उस कैटेगरी की दूसरी सुविधाएं जैसे स्वाथ्य बीमा जैसी चीजें भी मिल जाया करेंगी।.








कैसे मिलेगी पेंशन: एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि पेंशन योजना का फायदा लेने वाले व्यक्ति के पास बैंक अकाउंट होना जरूरी होगा। साथ ही, उस बैंक अकाउंट का पिछले 3 महीने का स्टेटमेंट भी देना होगा। पेंशन के लिए रजिस्ट्रेशन कराने का जिम्मा लाइफ इंश्योरेंश कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया के कंधों पर डालने की योजना है। .

नई दिल्ली (वि.सं.)। केंद्र सरकार प्रधानमंत्री-किसान सम्मान निधि योजना को तेजी से अमल करने के लिए सक्रिय हो गई है। पंजीकृत किसानों को निधि की पहली किस्त फरवरी तक देने का फैसला किया है। .




यानी पंजीकृत किसानों को इस माह के अंत तक 2000 रुपये उनके बैंक खाते में जमा करा दिए जांएगे, जबकि राज्य सरकार को बचे हुए किसानों को डाटा तैयार करने के लिए कहा गया है।.

कृषि मंत्रालय के अधिकारियों ने बुधवार को बैठक कर राज्य सरकारों से किसानों का डाटा बैंक जल्द तैयार करने के लिए कहा गया है। इसमें यूपी, गुजरात, कर्नाटक गुजरात, पंजाब आदि राज्यों से योजना को लागू करने के लिए चर्चा की गई। एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि यूपी में योजना के तहत 80 लाख से अधिक किसान पंजीकृत हैं।.




अकाउंट को आधार से भी जोड़ा जाएगा। स्कीम के अनुसार, 18 वर्ष के कामगार को 55 रुपये महीने और 29 साल के व्यक्ति को 100 रुपये महीने की राशि जमा करनी होगी। इतनी ही राशि उसके खाते में सरकार की तरफ से आएगी। 60 साल के होने के बाद 3000 रुपये मासिक पेंशन मिलेगी।.

योजना का फायदा कोई अपात्र व्यक्ति न उठा ले इसके लिए भी सरकार बाकायदा व्यवस्था बना रही है। कामगार के जरिये सेल्फ डिक्लेरेशन में दी गई जानकारी गलत पाए जाने पर उसका अकाउंट तुरंत रद्द कर दिया जाएगा।

 

Category: News

About the Author ()

Comments are closed.