7वां वेतन आयोग: ग्रेच्युटी, बोनस और बढ़ी सैलरी के लिए 40 हजार कर्मचारियों ने किया बड़ा ऐलान

| January 8, 2019
मुंबई में बृह्नमुंबई इलेक्ट्रिक सप्‍लाई और ट्रांसपोर्ट (BEST) के 40 हजार कर्मचारी हड़ताल पर चले गए हैं. उनकी मांग है कि उन्‍हें भी 7वां वेतन आयोग के तहत वेतन दिया जाना चाहिए. साथ ही कर्मचारियों को ग्रेच्युटी (Gratuity) और बोनस (Bonus) का लाभ भी मिलना चाहिए. साथ ही कर्मचारी नेताओं ने बेस्ट में खाली जगह जल्द से जल्द भरने की भी मांग की है. इससे लगभग 25 लाख यात्री जो रोजाना बेस्ट की बस में यात्रा करते हैं, उनको परेशानी का सामना करना पड़ रहा है. हालांकि, बेस्ट प्रशासन ने हड़ताली कर्मचारीयों पर कारवाई करने की चेतावनी दी है. इस हड़ताल से मुंबई में व्‍यापक पैमाने पर यात्रियों के सामने परेशानी खड़े होने की आशंका है.








दिवाली पर मिला था तोहफा
BEST के कर्मचारियों को महाराष्‍ट्र सरकार ने दिवाली पर बड़ा तोहफा दिया था. दीपावली पर हर कर्मचारी को 5500 रुपए का बोनस देने का ऐलान हुआ था. बेस्‍ट की खस्ता आर्थिक हालत के कारण बोनस को लेकर असमंजस था लेकिन इस घोषणा से कर्मचारियों में खुशी की लहर थी. बेस्‍ट के जनरल मैनेजर और बीएमसी कमिश्नर के बीच बैठक के बाद तय हुआ था कि इस बार कर्मचारियों को बोनस दिया जाए. इस बोनस से बेस्‍ट के खजाने पर 25 करोड़ रुपए को बोझ आने का अनुमान था. बेस्‍ट मुंबई और आसपास के इलाकों में बस सेवा के साथ ही इलेक्ट्रिक सप्लाई करती है.








केंद्र सरकार ने जून 2016 में 7वां वेतन आयोग की सिफारिशें लागू करने का फैसला किया था. इसके बाद से ही देशभर के राज्‍य ट्रांसपोर्ट कॉरपोरेशन में कार्यरत ड्राइवर भी 7वें वेतन आयोग के अनुरूप अपनी सैलरी बढ़ाने की मांग कर रहे हैं. महाराष्‍ ट्र, तमिलनाडु, राजस्‍थान व अन्‍य राज्‍यों में इसे लेकर ड्राइवरों ने हड़ताल तक की थी. बेस्‍ट में ड्राइवरों की सैलरी करीब 6300 रुपए से लेकर 16000 रुपए है. उन्‍हें देश में सबसे कम सैलरी मिल रही है. डीए व अन्‍य भत्‍ते जोड़ने के बाद यह 17500 रुपए के आसपास बैठती है.

Category: Indian Railways, News

About the Author ()

Comments are closed.