केंद्रीय कर्मी कल हड़ताल में दिखाएंगे ताकत

| January 7, 2019

केंद्र और राज्य सरकार की नीतियों के खिलाफ कर्मचारी 8 व 9 जनवरी को हड़ताल करेंगे। इसे लेकर कर्मचारी संगठन तैयारी में जुट गए हैं। हड़ताल से एक बार फिर जनता को परेशानी उठानी पड़ेगी। क्योंकि प्रदेश के 2.5 लाख नियमित कर्मचारियों के साथ अनियमित कर्मचारी भी इसमें शामिल होंगे। इधर, सरकार का दावा है कि जनता को दिक्कत नहीं आने दी जाएगी। सभी विभागों ने तैयारियां की हैं। प्रदेश में करीब 2.5 लाख नियमित और करीब 1.25 लाख अनियमित कर्मचारी लगे हैं।








राष्ट्रव्यापी हड़ताल में रोडवेज कर्मचारी भी शामिल होंगे, इससे 2 दिनों तक 4 हजार बसों के पहिए थमे रहेंगे। हड़ताल का आह्वान देश की 10 केंद्रीय ट्रेड यूनियनों और केंद्र एवं राज्य सरकार के कर्मचारियों की अखिल भारतीय स्तर की फेडरेशनों ने संयुक्त तौर पर किया है। सर्व कर्मचारी संघ प्रदेश के महासचिव सुभाष लांबा ने दावा किया कि राष्ट्रव्यापी आम हड़ताल एतिहासिक होगी और हड़ताल में पूरे देश में 20 करोड़ से ज्यादा मजदूर और कर्मचारी शामिल होंगे।




जत्थे बनाकर कर्मचारियों से संपर्क कर रहे नेता : हड़ताल काे लेकर सर्व कर्मचारी संघ हरियाणा के प्रधान धर्मबीर फोगाट, वरिष्ठ उपाध्यक्ष नरेश कुमार शास्त्री, महासचिव सुभाष लांबा, मुख्य संगठनकर्ता वीरेंद्र सिंह डंगवाल, कोषाध्यक्ष राजेंद्र सिंह बाटू, उपाध्यक्ष सबिता मलिक, सुरेंद्र राणा, सतीश सेठी आदि के नेतृत्व चल जत्थे कर्मचारियों से उसके कार्यस्थलों पर जा कर बैठकें कर रहे हैं। इसके अलावा विभागीय संगठनों ने भी अपने अपने विभागों में हड़ताल को सफल बनाने के लिए पूरी ताकत लगा दी है

जारी रहेंगी आपातकालीन सेवाएं : कर्मचारियों की ओर से आपातकालीन सेवाएं प्रभावित नहीं की जाएंगी। फायर ब्रिगेड, अस्पताल, बिजली आदि में आपातकाल में कर्मचारी काम करेंगे़ ताकि कोई जान-माल का नुकसान न हो।

अक्टूबर में भी हुई थी 2 दिन की हड़ताल : रोडवेज कर्मचारियों की लंबी चली हड़ताल के दौरान भी 30 व 31 अक्टूबर को प्रदेश के दो लाख से ज्यादा कर्मचारियों ने हड़ताल की थी। इससे पहले 26 अक्टूबर को सभी सामूहिक अवकाश पर चले गए थे। बाद में सरकार की ओर से की गई सख्ती और कोर्ट के आदेश पर कर्मचारियों ने रोडवेज बसों को चलाया था।




सरकार का दावा-जरूरी सेवाएं नहीं रुकेंगी :

  • शहरी स्थानीय निकाय मंत्री कविता जैन का कहना कि हड़ताल का जनता पर असर नहीं आने दिया जाएगा। सफाई और अन्य कार्य कांट्रेक्ट और आउट सोर्सिंग के तहत लगे कर्मचारियों से कराए जाएंगे। व्यवस्था को बिगड़ने नहीं दिया जाएगा।
  • बिजली निगमों के सीएमडी शत्रुजीत कपूर ने दावा किया कि बिजली सप्लाई में बाधा नहीं आएगी। कांट्रेक्ट पर काफी कर्मचारी लगे हुए हैं, जो काम संभालेंगे। हड़ताल को लेकर अधिकारियों को दिशा-निर्देश दिए हैं।
  • परिवहन विभाग के निदेशक आरसी बिधान का कहना है कि सभी कर्मचारी हड़ताल पर नहीं जाएंगे। अभी 900 से ज्यादा कंडक्टर और करीब 1600 चालकों की भर्ती की थी। वे बसें चलाएंगे। वे प्रोबेशन पीरियड पर चल रहे हैं। जैसे पहले व्यवस्था बनाई गई थी, उसी प्रकार अब भी बनाएंगे।

कर्मियों की ये हैं मांगें :

  • पुरानी पेंशन स्कीम बहाल करने
  • अनियमित कर्मचारियों को नियमित करने
  • समान काम-समान वेतन देने
  • एक्स ग्रेशिया रोजगार स्कीम को बहाल करने
  • निजीकरण पर रोक लगाने
  • श्रम कानूनों के पूंजीपतियों के हकों में किए जा रहे मजदूर विरोधी संशोधनों पर रोक लगाने
  • पंजाब के समान वेतनमान और पेंशन देने
  • मकान किराए भत्ते में जनवरी 2016 से बढ़ोतरी करने आदि मांगें शामिल हैं।

Category: News, Seventh Pay Commission

About the Author ()

Comments are closed.