ट्रेनों में अब रिजर्वेशन चार्ट लेकर नहीं चलना पड़ेगा टीटीई को

| December 9, 2018

पहले चरण में शताब्दी, राजधानी व गतिमान ट्रेनों में हुई शुरुआत आने वाले दिनों में अन्य ट्रेनों में होगा लागू कागज और समय की होगी बचत
नई दिल्ली (एसएनबी)। ट्रेन टिकट परीक्षकों (टीटीई) को अब ट्रेन में रिजर्वेशन चार्ट लेकर नहीं चलना पड़ेगा। उन्हें यात्रियों की आरक्षण स्थिति की जांच एवं अगले स्टेशन पर आरक्षण स्थिति की सूचना के लिए हैंड हेल्ड (एचएचटी) टर्मिंनल दिए जाएंगे।








वर्तमान में बर्थ उपलब्धता की स्थिति, टिकटों की जांच एवं चार्ट को टीटीई द्वारा आरक्षण चार्ट पर किया जाता है, जिसके लिए उन्हें ट्रेन में यात्रियों की आरक्षण की जांच या बर्थ आरक्षित करने के लिए आरक्षण चार्ट ले जाना पड़ता है। उन्हें टिकट की जांच या बर्थ आवंटन करने के लिए बार-बार आरक्षण चार्ट को देखना पड़ता है। हैंड हेल्ड टर्मिंनल दिए जाने से आरक्षण चार्ट के लिए कागज का इस्तेमाल नहीं करना पडेगा। उत्तर रेलवे के दिल्ली मंडल के ट्रेनों में एचएचटी का इस्तेमाल करने के लिए पहले चरण में 180 एचएचटी सेट मिले हैं।




पहले चरण में एचएचटी पण्राली का प्रयोग पांच शताब्दी एक्सप्रेस ट्रेनों, जिनमें काठगोदाम शताब्दी, लुधियाना शताब्दी, अमृतसर शताब्दी, देहरादून शताब्दी तथा गतिमान एक्सप्रेस समेत दो राजधानी एक्सप्रेस चेन्नई राजधानी एक्सप्रेस तथा गोवा राजधानी एक्सप्रेस) ट्रेनों में शुरू किया गया है। आने वाले दिनों में इसे अन्य ट्रेनों में भी शुरू किया जाएगा।




उत्तर रेलवे के मंडल रेल प्रबंधक आरएन सिंह ने बताया कि इस पण्राली के शुरू होने से बर्थ आवंटन में पारदर्शिता बढ़ेगी। इसके अलावा पर्यावरण अनुकूल होने के कारण इस सुविधा से वर्तमान में आरक्षण चार्ट प्रिंट करने के लिए प्रयोग किए जा रहे टनों कागज की बचत होगी। उन्होंने कहा कि इस पण्राली से यात्री आरक्षण पण्राली में सुधार होगा तथा इसके जरिए उन यात्रियों को जिनके पास प्रतीक्षा सूची का टिकट है, को चलती गाड़ी में सीट उपलब्धता की पुष्टि होगी तथा सभी स्टेशनों को बर्थ उपलब्धता की स्थिति तत्काल पहुंच जाएगी। उन्होंने कहा कि इससे रिफंड के दावे का तेजी से निपटान करने में भी सहायता मिलेगी।

Category: Indian Railways, News

About the Author ()

Comments are closed.