‘रेलकर्मियों की मांगों की अनदेखी हुई तो आंदोलन तय’

| November 19, 2018

उन्होंने बताया कि चुनाव में एसके त्यागी को केन्द्रीय अध्यक्ष, शिव गोपाल मिश्र को महामंत्री व आरके पाण्डेय को दोबारा सहायक महामंत्री चुना गया है। जबकि हरजीत कौर, सुभाष शर्मा, राम मीना, दिलराज सिंह, एसयू शाह, प्रवीण कुमार, प्रवीणा सिंह, राजेश चौबे व एके श्रीवास्तव को उपाध्यक्ष चुना गया है।








शिवगोपाल महामंत्री व आरके पांडेय सहायक महामंत्री चुने गए• एनबीटी ब्यूरो, लखनऊ : राजधानी में आयोजित नार्दर्न रेलवे मेन्स यूनियन के तीन दिवसीय वार्षिक सामान्य अधिवेशन के अंतिम दिन शनिवार को डेलिगेट सम्मेलन का आयोजन किया गया। सम्मेलन की अध्यक्षता यूनियन के केंद्रीय अध्यक्ष एसके त्यागी ने की। इस दौरान यूनियन के महामंत्री शिव गोपाल मिश्र ने रेल कर्मियों के संघर्षों की रिपोर्ट

प्रस्तुत कर प्रशासन पर उदासीनता का आरोप लगाया।

रेल मंत्री के बयान पर भड़के एक्ट अप्रेंटिस प्रशिक्षु, फूंका पुतला

रेल मंत्री पीयूष गोयल द्वारा एक्ट अप्रेंटिस प्रशिक्षुओं को लेकर दिए गए बयान से नाराज ऑल इंडिया रेलवे एक्ट अप्रेंटिस एसोसिएशन शाखा जमालपुर के सदस्यों ने शनिवार को जुबली बेल चौक पर रेल मंत्री का पुतला फूंका और केंद्र सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी की। पुतला दहन का नेतृत्व कर रहे राष्ट्रीय उपाध्यक्ष चंदन पासवान ने कहा कि ऑल इंडिया रेलवे फेडरेशन के 70वें अधिवेशन के दौरान रेल मंत्री पीयूष गोयल द्वारा रेलवे एक्ट अप्रेंटिस प्रशिक्षुओं के खिलाफ गलत बयान बाजी से पूरे देश के एक्ट अप्रेंटिस प्रशिक्षुओं में आक्रोश व्याप्त है। अप्रेंटिस प्रशिक्षुओं ने कहा कि केंद्र सरकार एक्ट अप्रेंटिस प्रशिक्षुओं को लेकर दोहरी नीति अपना रही है।








इसमें अविलंब सुधार लाएं, नहीं तो पूरे देश में आंदोलन प्रारंभ किया जाएगा। मौके पर कानपुर शाखा अध्यक्ष अनिल कुमार गुप्ता, भाई अजय चंद्रा ने कहा कि तकनीकी क्षेत्र में प्रशिक्षण प्राप्त अप्रेंटिस प्रशिक्षित बेरोजगार युवकों के भविष्य के साथ केंद्र सरकार खिलवाड़ कर रही है। वहीं कौशल राज ने कहा कि सरकार अविलंब के सारे एक्ट अप्रेंटिस को रेल में नौकरी दें। मौके पर मिथिलेश कुमार, अमन कुमार, रमेश, राजदीप, राम कुमार, समीर पटेल, नवीन, मनीष, गुड्डू, संतोष, संजीव, गौरव, वैभव राज सहित कई मौजूद थे।

Category: Indian Railways, News

About the Author ()

Comments are closed.