Railway Employees in smaller cities to get free medical facility

| October 31, 2018

छोटे शहरों के रेलकर्मियों को भी निजी अस्पताल की सुविधा

घर पर मिलेंगी सुविधाएं अभी तक रेलकर्मियों को गंभीर स्थिति में घर पर स्वास्य सेवाएं नहीं मिलती थीं। लेकिन अब गंभीर इलाज में अस्पताल नहीं पहुंच पाने की दशा में फिजियोथैरेपी एवं कुछ अन्य जांच जैसी सुविधाएं रेलकर्मियों को घर भी निजी अस्पतालों से ले सकेंगे। फिजियोथैरेपी और जांच का खर्च रेलकर्मी खुद उठाएंगे और बाद में उक्त खर्च के भुगतान के लिए रेलवे में दावा करेंगे। इसके बाद उन्हें भुगतान कर दिया जाएगा।






इलाज के साथ ही विभिन्न रोगों से संबंधित जांच की सुविधा भी मिलेगी, निजी अस्पaतालों को सूचीबद्ध करने के निर्देश
देशभर में रेलवे के नेटवर्क पर कार्यरत और छोटे-छोटे शहरों में रहने वाले रेलकर्मियों एवं उनके परिवारजनों को निजी अस्पतालों में इलाज की सुविधा मिलेगी। इसके अलावा निजी अस्तपतालों में विभिन्न रोगों से संबंधित जांच की भी सुविधा मिल सकेगी। इन छोटे शहरों में रहने वाले रेलकर्मियों को रेलवे के बड़े और केंद्रीय अस्पतालों में जाने की जरूरत नहीं होगी। रेलवे ने ऐसे निजी अस्पतालों और जांच केंद्रों को सूचीबद्ध करने के निर्देश दिये हैं। इन रेलकर्मियों को केंद्रीय कर्मचारी स्वास्य सेवा (सीजीएचएस) के निर्धारित दर पर निजी अस्पतालों में स्वास्य सुविधाएं मिलेंगी। दरअसल रेलवे के विशाल नेटवर्क पर देशभर में 13 लाख रेलकर्मी तैनात हैं। इनके परिवारजन, आश्रितों और सेवानिवृत्त रेलकर्मियों को मिलाकर रेलवे 65 लाख लोगों को स्वास्य सेवाएं उपलब्ध कराता है।








हांलाकि रेलवे के नेटवर्क पर देशभर में केंद्रीय अस्पताल, बड़े अस्पताल और प्राथमिक स्वास्य केंद्र हैं। लेकिन फिर भी कई गंभीर बीमारियों में तत्काल इलाज और जांच के लिए रेलकर्मियों व उनके परिवारजनों को छोटे-छोटे शहरों से बड़े शहरों में स्थित रेलवे अस्पतालों में भागना पड़ता है। हांलाकि बड़े शहरों में स्थित केंद्रीय अस्पतालों और बड़े अस्पतालों में कुछ सरकारी व निजी अस्पताल सूचीबद्ध हैं। फिर भी छोटे शहरों से रेलकर्मियों की दौड़ अधिक न हो, इसलिए छोटे शहरों में तैनात रेलकर्मियों को वहीं निजी अस्पतालों में गंभीर इलाज और जांच की सुविधाएं मिल सकें। इसके लिए रेल मंत्रालय ने सभी जोनल रेलवे को ऐसे अस्पतालों और जांच केंद्रों को सूचीबद्ध करने को कहा है।

Category: Indian Railways, News

About the Author ()

Comments are closed.