सरकार बैंकों के मर्जर का आप पर क्या हो सकता है असर

| October 23, 2018

नर्इ दिल्ली। हाल ही में देश के तीन बड़े सरकारी बैंकों के विलय की घोषण की गर्इ थी। विलय किए जाने वाले इन बैंकों में बैंक आॅफ बड़ौदा (बीआेबी), विजया बैंक अौर देना बैंक का नाम शामिल है। इन तीनों बैंकों के विलय की प्रक्रिया तो शुरू हो गर्इ है लेकिन एक बड़ा सवाल इन बैंक के ग्राहकों के लिए ये है कि इस विलय से उनपर क्या असर होगा। एेसे में आइए जानते हैं कि यदि आपका भी खाता इन बैंकों में है तो आप पर इसका क्या असर होगा अौर आपको क्या करना होगा।








खाता संख्या से लेकर कस्टमर आर्इडी में हो सकता है बदलाव

इन बैंकों के विलय के बाद जो नया बैंक बनेगा, उसके लिए आपकाे नया खाता संख्या आैर कस्टमर आर्इडी मिल सकता है। एेसे में आपके लिए जरूरी है कि आप अपने मौजूदा खाते से अपना र्इमेल आर्इडी व मोबाइल नंबर अपडेट कर लें ताकि भविष्य में नए खाता संख्या के आवंटन पर आपको इसके बारे में जरूरी जानकारी मिल सके। यदि आपके पास इन तीन बैंकों में से किसी दो या फिर तीनों में खाता है ताे आपके इन खातों को मिलाकर एक कस्टमर आर्इडी उपलब्ध करार्इ जाएगी।




यहां अपडेट करनी होगी जानकारी

यदि आपको नया खाता संख्या या IFSC कोड मिलता है तो इसे थर्ड पार्टी संस्थानों के पास अपडेट करनी होगी। जैसे टैक्स रिफंड के लिए इनकम टैक्स डिपार्टमेंट, बीमा कंपनी, म्यूचुअल फंड अादि। ये जानकारियां आप आॅनलाइन व आॅफलाइन अपडेट कर सकते हैं। यदि आपने लोन लिया है अौर इसके लिए मासिक क्लियरेंस ले रखी है तो नए बैंक को भी इसके बारे में जानकारी देनी होगी।




बदल सकता है आपका होम ब्रांच

तीनों बैंकों के विलय के बाद कर्इ शाखाएं बंद हो सकती हैं। कयोंकि एेसा हो सकता है कि एक ही इलाके में दाे या तीनों बैंकों की शाखाएं हों। एेसे में नया बैंक अतिरिक्त शाखाआें को बंद कर देगा। यदि आपका भी शाखा बदला जाता है तो आपको अपने IFSC कोड व MICR कोड पर नजर बनाए रखना हाेगा क्योंकि इनकी जरूरत कर्इ तरह के वित्तीय लेनदेन के वक्त पड़ती है।

Category: Banking, News

About the Author ()

Comments are closed.