रेलवे ने कहा-संरक्षा आयुक्त से जांच नहीं

| October 21, 2018

रेल मंत्रालय ने अमृतसर ट्रेन हादसे में रेल संरक्षा आयुक्त (सीआरएस) से जांच कराने से पल्ला झाड़ लिया है। रेलवे इसे ट्रेस्पासिंग का मामला बता रहा है यानी रेलवे की संपत्ति या क्षेत्र में बगैर मंजूरी प्रवेश करना। ऐसे मामलों में विभागीय अथवा सीआरएस जांच नहीं कराई जाती है, बल्कि संबंधित व्यक्ति के खिलाफ रेलवे कानूनी कार्रवाई करता है। .








शुक्रवार शाम को ही रेल मंत्रालय ने स्पष्ट कर दिया था कि इस हादसे में उसकी कोई गलती नहीं है। अगले दिन रेल मंत्रालय ने साफ कर दिया कि हादसे की जांच रेल संरक्षा आयुक्त से नहीं कराई जाएगी। उत्तर रेलवे के सीपीआरओ दीपक कुमार ने हिंदुस्तान को बताया कि अमृतसर हादसे की कोई जांच नहीं कराई जा रही है। इस दुर्घटना की जांच राज सरकार ने कराने के आदेश दिए हैं।.

सीआरएस जांच का मकसद : जांच का मकसद घटना की पुनरावृत्ति रोकने के लिए होता है। साथ ही रेलवे को सुझाव दिए जाते हैं कि ऐसे कौन से उपाय लागू किए जाएं जिससे उक्त प्रकार की घटना बार-बार ना हो सके।.




इस दुर्घटना के लिए रेल प्रशासन जिम्मेदार नहीं है। रेलवे को दोषी ठहराना गलत है। रेल प्रशासन को रेल पटरी के नजदीक कार्यक्रम के आयोजन की जानकारी नहीं दी गई थी। .

-अश्विनी लोहानी, रेलवे बोर्ड अध्यक्ष.

ड्राइवर बोला, अंदाजा नहीं था पटरी पर इतने लोग हैं

पंजाब और रेलवे पुलिस ने शनिवार को डीएमयू ट्रेन चालक को लुधियाना रेलवे स्टेशन से हिरासत में लेकर पूछताछ की। सूत्रों ने बताया कि ड्राइवर का कहना है कि उसने ग्रीन सिग्नल दिया था और रास्ता साफ था लेकिन उसे कोई अंदाजा नहीं था कि बड़ी संख्या में लोग रेलवे ट्रैक पर खड़े हैं। .

आयोजकों के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज : जीआरपी ने अमृतसर में रेल हादसे में शनिवार को दशहरा मेला आयोजित करने वाले आयोजकों के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की। सूत्रों के अनुसार किसी का नाम नहीं लिया गया और प्राथमिकी भारतीय दंड संहिता की धारा 304 और 304ए (गैरइरादतन किसी की जान लेना, हत्या नहीं) के तहत दर्ज कराई गई है। .




आयोजकों को ट्रैक पर भीड़ की जानकारी थी! : अमृतसर ट्रेन हादसे से पहले दशहरा मेले के आयोजकों का एक वीडियो सामने आया है। इस वीडियो से स्पष्ट हो रहा है कि ट्रैक पर मौजूद भीड़ के बारे में आयोजनकर्ताओं को पता था। .

वीडियो के सामने आने के बाद नवजोत कौर पर कई तरह के सवाल खड़े किए जा रहे हैं। वायरल हो रहे वीडियो में मंच से बोलते एक व्यक्ति कहता है कि मैडम (नवजोत कौर सिद्धू), यहां देखिए। इन लोगों को रेल की पटरियों की कोई चिंता नहीं है भले ही 500 ट्रेन भी यहां से गुजर जाए तो भी 5000 लोग आपके लिए खड़े रहेंगे। शुक्रवार रात को रेल की पटरियों पर खड़े होकर रावण दहन देख रहे करीब 59 लोगों को ट्रेन ने कुचल दिया था। यह घटना जोड़ा फाटक के पास की करीब 7 बजे की है।.

Category: Indian Railways, News

About the Author ()

Comments are closed.