नयी पेंशन स्कीम कर्मचारियों के हित में – कैबिनेट सेक्रेटरी

| October 19, 2018

शासन ने यह भी निर्देश दिए हैं कि यदि किसी कर्मचारी के खाते में धनराशि जमा नहीं की गई है तो उस खाते में ब्याज समेत धनराशि 30 नवंबर तक हर हाल में जमा किया जाए। बैठक में अधिकारियों के अलावा राज्य कर्मचारी संयुक्त परिषद के प्रदेश अध्यक्ष हरिकिशोर तिवारी, बाबा हरदेव सिंह, शिवबरन सिंह, संजय सिंह और आरके पांडेय मौजूद रहे। .

‘ एनपीएस में ग्रेच्युटी, अवकाश नगदीकरण, बीमा और चिकित्सा खर्च प्रतिपूर्ति पूर्व की तरह लागू .

‘ राज्य सरकार ने कर्मचारियों और पेंशनरों के हित में पहली जनवरी, 2016 से ही 7वां वेतन लागू किया .








मुख्य सचिव ने कहा कि राष्ट्रीय पेंशन प्रणाली में जमा धनराशि पूरी तरह सुरक्षित है। पीएफआरडीए की गाइडलाइन्स के अनुरूप पेंशन खाते में जमा धनराशि के 50 प्रतिशत तक का निवेश पूर्णतया सुरक्षित सरकारी प्रतिभूतियों और 45 प्रतिशत तक का निवेश बन्ध पत्रों में किया गया है। शेष धनराशि का निवेश उच्च रिटर्न देने वाले शेयरों में किया गया है। कर्मचारियों के वेतन से की गई कटौती और नियोक्ता अंशदान की 9,200 करोड़ रुपये की धनराशि कर्मचारियों के पेंशन खातों में जमा है। मात्र 185 करोड़ रुपए की धनराशि राज्य सरकार के लोक लेखा खाते में है, जिसे राज्य सरकार द्वारा ब्याज के साथ पेंशन खाते में जमा कराने की प्रक्रिया चल रही है। .




‘ एनपीएस में ग्रेच्युटी, अवकाश नगदीकरण, बीमा और चिकित्सा खर्च प्रतिपूर्ति पूर्व की तरह लागू .

‘ राज्य सरकार ने कर्मचारियों और पेंशनरों के हित में पहली जनवरी, 2016 से ही 7वां वेतन लागू किया .

शासन ने यह भी निर्देश दिए हैं कि यदि किसी कर्मचारी के खाते में धनराशि जमा नहीं की गई है तो उस खाते में ब्याज समेत धनराशि 30 नवंबर तक हर हाल में जमा किया जाए। बैठक में अधिकारियों के अलावा राज्य कर्मचारी संयुक्त परिषद के प्रदेश अध्यक्ष हरिकिशोर तिवारी, बाबा हरदेव सिंह, शिवबरन सिंह, संजय सिंह और आरके पांडेय मौजूद रहे। .




मुख्य सचिव ने कहा कि राष्ट्रीय पेंशन प्रणाली में जमा धनराशि पूरी तरह सुरक्षित है। पीएफआरडीए की गाइडलाइन्स के अनुरूप पेंशन खाते में जमा धनराशि के 50 प्रतिशत तक का निवेश पूर्णतया सुरक्षित सरकारी प्रतिभूतियों और 45 प्रतिशत तक का निवेश बन्ध पत्रों में किया गया है। शेष धनराशि का निवेश उच्च रिटर्न देने वाले शेयरों में किया गया है। कर्मचारियों के वेतन से की गई कटौती और नियोक्ता अंशदान की 9,200 करोड़ रुपये की धनराशि कर्मचारियों के पेंशन खातों में जमा है। मात्र 185 करोड़ रुपए की धनराशि राज्य सरकार के लोक लेखा खाते में है, जिसे राज्य सरकार द्वारा ब्याज के साथ पेंशन खाते में जमा कराने की प्रक्रिया चल रही है। .

Category: Indian Railways, News

About the Author ()

Comments are closed.