रेलवे कर्मियों के बच्चों को मिलती रहेगी नौकरी

| September 29, 2018

रेलवे की लार्जेस स्कीम पर चंडीगढ़ उच्च न्यायालय के रोक लगाए जाने के फैसले के बाद रेलवे बोर्ड ने भी इस स्कीम पर पूरी तरह रोक लगा दी थी। एआइआरएफ के महामंत्री शिवगोपाल मिश्र की ओर से विरोध जताए जाने पर रेलवे बोर्ड ने इसे लागू रखने का निर्णय लिया है। हालांकि अभी इसके लिए एक तिथि निर्धारित की गई है। 1आल इंडिया रेलवे मैंस फेडरेशन के जोनल सचिव डीएन चौबे ने बताया कि लार्जेस स्कीम खत्म किए जाने के विरोध में महामंत्री शिवगोपाल मिश्र ने चार अक्टूबर को काला दिवस मनाए जाने की घोषणा की थी।








इसके लिए भी शाखाओं को पत्र भी जारी कर दिया गया। पत्र जारी होने के बाद रेलवे बोर्ड बैकफुट पर आ गया। 27 सितंबर को हुई बैठक में फैसला लिया गया कि 27 अक्टूबर 2017 से पहले के जितने केस हैं और जो पाइप लाइन में हैं उन आवेदकों को नौकरी दे दी जाएगी।जागरण संवाददाता, मुरादाबाद : रेलवे की लार्जेस स्कीम पर चंडीगढ़ उच्च न्यायालय के रोक लगाए जाने के फैसले के बाद रेलवे बोर्ड ने भी इस स्कीम पर पूरी तरह रोक लगा दी थी।




एआइआरएफ के महामंत्री शिवगोपाल मिश्र की ओर से विरोध जताए जाने पर रेलवे बोर्ड ने इसे लागू रखने का निर्णय लिया है। हालांकि अभी इसके लिए एक तिथि निर्धारित की गई है। 1आल इंडिया रेलवे मैंस फेडरेशन के जोनल सचिव डीएन चौबे ने बताया कि लार्जेस स्कीम खत्म किए जाने के विरोध में महामंत्री शिवगोपाल मिश्र ने चार अक्टूबर को काला दिवस मनाए जाने की घोषणा की थी। इसके लिए भी शाखाओं को पत्र भी जारी कर दिया गया। पत्र जारी होने के बाद रेलवे बोर्ड बैकफुट पर आ गया। 27 सितंबर को हुई बैठक में फैसला लिया गया कि 27 अक्टूबर 2017 से पहले के जितने केस हैं और जो पाइप लाइन में हैं उन आवेदकों को नौकरी दे दी जाएगी।क्या है लार्जेस स्कीम




लार्जेस स्कीम के तहत 1800-1900 ग्रेड पे वाले रेलवे कर्मचारी 57 वर्ष की उम्र पूरी होने पर वीआरएस ले लेते हैं तो उनके एक आश्रित को रेलवे में नौकरी मिलती है। हालांकि, इसके लिए एक टेस्ट पास करना होता है। यह स्कीम लोको पायलट में भी लागू थी।

रेलवे बोर्ड के आदेश के लिए यहाँ क्लिक करें:- 

Category: Indian Railways, News

About the Author ()

Comments are closed.