Vacant posts affecting work in Railways

| September 21, 2018

देश की लाइफ लाइन मानी जाने वाली इंडियन रेलवे में कई महत्वपूर्ण पद खाली पड़े हुए हैं। महत्वपूर्ण है कि इनमें से रेलवे बोर्ड के सदस्य रोलिंग स्टॉक का पद भी बीते एक अगस्त से खाली पड़ा है। इसके अलावा कई जोनल महाप्रबंधकों के पद भी खाली हैं। महत्वपूर्ण है कि एक जोनल महाप्रबंधक ने हाल ही में रेलमंत्री को पत्र लिखकर कहा है कि रेलवे बोर्ड के सदस्य रोलिंग स्टॉक जैसा महत्वपूर्ण पद डेढ़ माह से खाली होने की वजह से रेलवे के कामकाज पर असर पड़ रहा है। रेलवे के सूत्रों का कहना है कि कम से कम तीन जोन रेलवे में महाप्रबंधकों के पद बीते एक से तीन महीने से खाली पड़े हुए हैं। इनमें नार्थ सेंट्रल रेलवे, वेस्टर्न सेंट्रल रेलवे और साउथ ईस्टर्न रेलवे शामिल है। इसके अलावा रेल वील फैक्ट्री आदि के प्रमुखों के पद भी खाली हैं। साउथ ईस्ट रेलवे के जनरल मैनेजर ए.के. गुप्ता ने रेलवे बोर्ड के एक सदस्य का पद खाली होने के बारे में रेलमंत्री को लेटर लिख दिया है।








रेलवे में डेढ महीने से खाली हैं कई पोस्ट, कामकाज पर पड़ रहा असर

गेटमैन का काट दिया था हाथ, अब मिलने पहुंचे रेलवे बोर्ड चेयरमैन लोहानी
लोहानी ने कहा है कि इस मामले के दोषियों पर कड़ी से कड़ी कार्रवाई की जाएगी. साथ ही सुनिश्चित किया जाएगा कि कुंदन को बेहतर से बेहतर इलाज देकर पहले जैसा बनाया जा सके.




लोहानी ने गेटमैन से की मुलाकात
शुक्रवार को रोहिणी के सरोज हॉस्पिटल में रेलवे बोर्ड के चेयरमैन अश्वनी लोहानी ने पीड़ित गेटमैन कुंदन से मुलाकात की. लोहानी ने यहां डॉक्टरों से कुंदन की सेहत के बारे में जाना. इस मौके पर दिल्ली मंडल के रेल प्रबंधक आरएन सिंह भी मौजूद रहे. चेयरमैन ने आश्वासन दिया कुंदन को रेलवे प्रशासन की तरफ से हर संभव सहायता मुहैया की जाएगी.
रेलवे उठा रहा है इलाज का खर्चा 
अश्विनी लोहानी ने कहा कि मानवतावादी भाव के रूप में रेलवे चंदन के इलाज और संबंधित खर्चों की पूरी देखभाल कर रहा है और बर्बर हमले के दोषियों को सजा दिलवाने के लिए भी पूरी कोशिशें की जा रही हैं. उन्होंने कहा कि न सिर्फ रेलवे बल्कि रेलवे अधिकारी और कर्मचारी भी कुंदन की मदद के लिए योगदान कर रहे हैं.




गेटमेन पर हुआ था हमला
बता दें कि बीते सोमवार को बाहरी दिल्ली के नरेला और रठधना के बीच रेलवे लेवल गेट नंबर 19 पर कुंदन पाठक नामक गेटमैन के 3 अज्ञात बदमाशों ने बर्बरता दिखाते हुए हाथ काट दिए थे. सरोज अस्पताल में डॉक्टर ने ऑपरेशन कर कुंदन के हाथ तो जोड़ दिए लेकिन अब भी वो पूरी तरह ठीक नहीं हो पाए हैं. इस दौरान कुंदन के दोस्त चंदन पर भी बदमाशों ने हमला किया था. चंदन का इलाज रेलवे के केंद्रीय अस्पताल में चल रहा है.

Category: Indian Railways, News

About the Author ()

Comments are closed.