दुर्गा पूजा पर बोनस – 15 रूपए से लेकर 57000 रूपए तक का सफर

| September 17, 2018

दुर्गापूजा के एक माह पहले कोयलाकर्मियों के बीच बोनस की चर्चा शुरू हो जाती है। चर्चा हो भी क्यों नहीं, दशकों से बोनस का कोयलाकर्मियों के बीच खास आकर्षण रहा है। .

इसी बोनस पर धनबाद की दुर्गापूजा की चमक निर्भर करती है। निजी खान मालिकों के समय दुर्गापूजा पर मिलने वाली 12-15 रुपए की बक्शीश अब 57 हजार रुपए तक पहुंच गई है। हालांकि मौजूदा समय में कोल इंडिया में बोनस का प्रावधान नहीं है। तकनीकी रूप से यह एक्सग्रेसिया है। यह अलग बात है कि आज भी कोयलाकर्मी बोनस ही कहते हैं। .








वरिष्ठ मजदूर नेता रमेंद्र कुमार कहते हैं कि निजी मालिकों के समय कोयला मजदूरों को 12 माह काम करने पर 13 महीने का तनख्वाह मिलती थी। यही एक माह का अतिरिक्त वेतन बोनस कहलाता था। दुर्गापूजा के मौके पर बक्शीश देने का रिवाज था, जो 12-15 रुपए से सौ-सवा रुपए तक मिलता गया। इसके बाद 1965 में बोनस एक्ट लागू हुआ। तब निजी मालिकों को मजदूरों को 8.33 प्रतिशत के हिसाब से बोनस भुगतान करना पड़ता था। खदानों का राष्ट्रीयकरण होने के बाद बोनस का प्रावधान नहीं था। यूनियनों ने एकजुट दबाव बनाया और बोनस को एक्सग्रेसिया के रूप में जिंदा रखा। कोल सेक्टर में दुर्गापूजा पर मिलने वाले बोनस की खास विशेषता यह है कि पद और ग्रेड को नजरअंदाज करते हुए एक समान रकम का भुगतान किया जाता है। गैर अधिकारियों को बोनस मिलता है।.

कोल इंडिया प्रबंधन की ओर से इस साल के बोनस के लिए अभी तक बैठक के लिए आधिकारिक पत्र जारी नहीं किया गया है। वैसे एटक नेता रमेंद्र कुमार ने बताया कि 27 सितंबर को बैठक होनी है। कोल इंडिया की ओर से इस बाबत संकेत दिया गया है। मालूम हो यूनियनों और प्रबंधन के बीच वार्ता के बाद बोनस की घोषणा होती है। .

वर्ष राशि .

2011 17000 .

2012 26500 .

2013 31500 .

2014 40000 .

2015 48500 .

2016 54000.

2017 57000 .








कोल इंडिया प्रबंधन की ओर से इस साल के बोनस के लिए अभी तक बैठक के लिए आधिकारिक पत्र जारी नहीं किया गया है। वैसे एटक नेता रमेंद्र कुमार ने बताया कि 27 सितंबर को बैठक होनी है। कोल इंडिया की ओर से इस बाबत संकेत दिया गया है। मालूम हो यूनियनों और प्रबंधन के बीच वार्ता के बाद बोनस की घोषणा होती है। .

वर्ष राशि .

2011 17000 .

2012 26500 .

2013 31500 .

2014 40000 .

2015 48500 .

2016 54000.

2017 57000 .

Category: News

About the Author ()

Comments are closed.