आरपीएफ जवान को चोरी की खबर वाट्सएप ग्रुप में पोस्ट करना पड़ा महंगा

| September 8, 2018

ट्रेनों में बढ़ती चोरी की घटनाओं की खबर, वाट्सएप ग्रुप में पोस्ट करना आरपीएफ के एक जवान को महंगा पड़ गया। जबलपुर रेल मंडल के आरपीएफ कांस्टेबल ने इस खबर को जैसे ही वाट्सअप ग्रुप में पोस्ट किया, रेलवे के हेल्थ इंस्पेक्टर ने इस पर कमेंट कर यह पूछ लिया कि क्या इन घटनाओं के बाद रेल मंत्री इस्तीफा देंगे। इसको लेकर आरपीएफ से लेकर रेलवे तक हंगामा मच गया।








जबलपुर आरपीएफ के कमांडेंड अनिल भाले राव ने आरपीएफ के कांस्टेबल इदरीश बेग को तत्काल सस्पेंड कर उसे मदनमहल स्टेशन से हटाकर मझगवां में पदस्थ कर दिया। इधर पोस्ट पर कमेंट करने वाले जबलपुर स्टेशन के हेल्थ इंस्पेक्टर पंकज मीना पर कार्रवाई करने पश्चिम मध्य रेलवे के चीफ कमर्शियल मैनेजर (सीसीएम) को रिपोर्ट भेज दी, जिस पर जांच शुरू हो गई।

क्या है मामला

मंगलवार-बुधवार रात उद्योगनगरी एक्सप्रेस, पुणे-जबलपुर स्पेशल में चोरी की खबर को कांस्टेबल ने गुरुवार को वाट्सअप के कई निजी ग्रुप में भेज दी। एक निजी ग्रुप में इस खबर को पढ़ने के बाद रेलवे के हेल्थ इंस्पेक्टर ने कमेंट कर यह पूछा लिया कि सुरक्षा के मद्देनजर 3 ट्रेनों में लूट के बाद क्या रेलमंत्री इस्तीफा देंगे। उसका यह कमेंट न सिर्फ आरपीएफ के अधिकारी ने पढ़ा बल्कि इस ग्रुप में जुड़े आरपीएफ के डीजी, आईजी और रेलवे के वरिष्ठ अधिकारियों ने भी पढ़ा। इसके बाद जांच और फिर कार्रवाई का दौर शुरू हो गया। शाम तक जवान को सस्पेंड कर दिया गया।




जोन का पहला मामला

पश्चिम मध्य रेलवे में इस तरह का यह पहला मामला है, जिसमें एक निजी वाट्सएप ग्रुप में सिर्फ रेलवे के समाचार भेजने पर आरपीएफ जवान पर कार्रवाई की गई। वहीं दूसरी ओर इस समाचार पर कमेंट करने वाले रेल कर्मचारी पर भी कार्रवाई की तलवार लटक गई है। सीसीएम ने इस मामले से जुड़ी रिपोर्ट तलब की है। हालांकि देर रात तक कर्मचारी पर कोई कार्रवाई नहीं की। वहीं दूसरी ओर इस कार्रवाई को लेकर रेलवे के अधिकारी और कर्मचारियों में बहस शुरू हो गई।

आरपीएफ द्वारा वाट्सअप ग्रुप में ऐसी कोई भी जानकारी अपडेट न की जाए, जिससे वैचारिक माहौल बिगड़े। सोशल साइट्स का आप उपयोग करें, लेकिन अनुशासन के दायरे में रहकर। इस मामले में जबलपुर रेल मंडल के डीएससी जांच कर रहे हैं।



डॉ.आरके मलिक, आईजी, आरपीएफ जबलपुर

रेल कर्मचारी द्वारा वाट्सअप ग्रुप में कमेंट करने से जुड़ी जानकारी मेरे पास आई है। बिना जांच में इस बारे में कुछ भी नहीं कहा जा सकता। सभी पहलुओं को देखने के बाद ही कह सकूंगा।

एसके दास, सीसीएम, पमरे

Category: Indian Railways, News

About the Author ()

Comments are closed.