रेलवे की बेहतरी तभी जब 13 लाख कर्मी खुश रहेंगे : लोहानी

| June 11, 2018

रेलवे की बेहतरी तभी जब 13 लाख कर्मी खुश रहेंगे : लोहानी, कहा, रेलवे की मूलभूत सुविधाओं में सुधार करने के प्रति हम कृत सकंल्प है और इसमें किसी प्रकार से पैसे की कमी नहीं आने देंगे

रेलवे बोर्ड के अध्यक्ष अश्वनी लोहानी ने कहा कि रेलवे के 13 लाख कर्मचारी जब खुश रहेंगे तभी रेलवे की बेहतरी हो सकती है। लिहाजा रेलकर्मियों के प्रति संवेदनशील होने की जरूरत है। वह खुद भी अफसरों को रेलकर्मियों के प्रति संवेदनशील बनाने के प्रयास में लगे हुए हैं। वास्तव में कथनी और करनी में कोई फर्क नहीं होना चाहिए। लोहानी आज यहां ऑल इंडिया रेलवे मेंस फेडरेशन की ओर से आयोजित संरक्षा सेमिनार को संबोधित कर रहे थे।








उन्होने कहा कि रेलवे की मूलभूत सुविधाओं में सुधार करने के प्रति हम कृत सकंल्प है और इसमें किसी प्रकार से पैसे की कमी नहीं आने देंगे। उन्होंने यह भी कहा कि हमें अपनी कार्यशैली को भ्रष्टाचार मुक्त बनाना होगा। सेमिनार को ऑल इंडिया रेलवे मेंस फेडरेशन के महामंत्री शिवगोपाल मिश्र ने कहा कि परिचालन में लोको निरीक्षकों की अहम भूमिका से इंकार नहीं किया जा सकता। उन्होंने लोको निरीक्षकों के दिन-प्रतिदिन कार्यो पर आने वाली व्यावहारिक कठिनाइयों पर व्यापक र्चचा की।




उन्होंने लोको निरीक्षकों की वेतन विसंगतियों, मुख्य रूप से स्टैपिंग अप तथा प्रोन्नति मे आने वाली कठिनाइयों के संबंध में सेमिनार में आये मुख्य लोको निरीक्षकों की समस्याओं का शीघ्र निराकरण कराने का आश्वासन दिया। सेमिनार में रेलवे बोर्ड सदस्य (ट्रैक्शन) घनश्याम सिंह ने अपने संबोधन में कहा कि मुझे वरिष्ठ लोको निरीक्षकों की व्यावहारिक कठिनाइयों का अनुभव है। हम लोग इस परेशानी को दूर करने का सार्थक प्रयास कर रहे हैं।




उन्होेंने सेमिनार में आश्वासन दिया कि शीघ्र ही लोको निरीक्षकों की स्टैपिंग अप में व्याप्त विसंगतियों को दूर कर दिया जायेगा। सेमिनार में आयोजक मंडल के अध्यक्ष राजेन्द्र भारद्धाज एवं मंडल मंत्री अनूप शर्मा ने कार्यक्रम के प्रारम्भ में सभी अतिथियों का स्वागत किया तथा प्रतीक चिह्न प्रदान किया।

Category: Indian Railways, News

About the Author ()

Comments are closed.