Central Government to prefer multitasking in recruitments

| May 29, 2018

नई दिल्ली: सरकारी नौकरियों में मल्टीटास्किंग करने वाले लोगों को तरजीह दी जाएगी। सरकार इसके लिए नियुक्ति प्रक्रिया में बदलाव कर सकती है। सूत्रों के अनुसार अगले कुछ दिनों में इसके लिए एक कमिटी गठित होगी, जो इसमें किस तरह बदलाव हों, इसकी सिफारिश करेगी। इसके लिए सुझाव पीएमओ की ओर से आए हैं। सरकार का मानना है कि बदलते समय में सरकार को ऐसे कर्मचारियों की जरूरत होगी, जो कई कामों में कुशल हों। इसके दायरे में तकनीक से लेकर व्यावहारिक ज्ञान भी होगा।







सूत्रों के अनुसार, इसके साथ सरकार ने खान कमिटी की सिफारिशों को भी लागू करने की भी पहल की है। इसमें कहा गया है कि चूंकि अब एसएससी की ग्रेड सी और ग्रेड डी परीक्षा में इंटरव्यू खत्म हो गया है, इसलिए अब लिखित परीक्षा में एक ऐसा पेपर जोड़ा जाए जिसके उत्तर स्टूडेंट के लॉजिक और पर्सनैलिटी के बारे में बता सकें। इस तरह की परीक्षा का आयोजन एसएसएसी-स्टाफ सिलेक्शन कमीशन करती है।








मालूम हो कि हर साल एसएससी 7 से 8 परीक्षाएं आयोजित करवाती है, जिसमें एक करोड़ से अधिक स्टूडेंट भाग लेते हैं। इससे हर साल 1-2 लाख कर्मचारी चुने जाते हैं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सत्ता में आने के बाद ग्रेड सी और ग्रेड डी की नियुक्ति में इंटरव्यू को समाप्त किया और इसे अपने सबसे बड़े रिफॉर्म के रूप में पेश किया। लेकिन इसके बाद कमिटी ने सरकार से आग्रह किया था कि इंटरव्यू को हटाने के बाद इसमें परीक्षार्थी की हर तरीके से जांच के लिए कुछ बदलाव करने चाहिए।

SSC में खाली पड़े पदों को भरें: संसदीय कमिटी
ग्रेड सी और ग्रेड डी में नया पेपर
मल्टी-टास्किंग करने वाले कर्मचारी, इसके लिए नियुक्ति प्रक्रिया में बदलाव लाने की है तैयारी

Category: DOPT, News

About the Author ()

Comments are closed.