Central Government to recall its retired employees on job

| May 9, 2018

कंसलटेंट के तौर पर विभिन्न मंत्रालयों और विभागों में होगी नियुक्ति, रिटायर हैं, टायर्ड नहीं तो केंद्र दोबारा बुला सकता है काम पर

विभिन्न मंत्रालयों और विभागों में अधिकारियों के खाली पड़े पदों के कारण हो रही दिक्क्तों का समाधान मोदी सरकार ने निकाल लिया है। सरकार इन्हीं मंत्रालयों और विभागों से रिटायर अधिकारियों और कर्मचारियों को बड़े पैमाने पर दोबारा बहाल करेगी। इसके लिए कॉन्ट्रैक्ट पर रखने की शर्त में भी ढील दी जाएगी। यानी की केंद्रीय कर्मचारी अगर रिटयर्ड हैं, लेकिन टायर्ड नहीं तो उनके अच्छे दिन फिर से शुरू हो सकते हैं।








साल भर और नौकरी

दरअसल तमाम सेंट्रल ऑफिसों में सबसे अधिक समस्या पदों का खाली होना है। सरकार की लेटेस्ट रिपोर्ट क अनुसार 747171 पद खाली पड़े हुए हैं। इस कारण तमाम मंत्रालयों में काम पर प्रतिकूल असर पड़ रहा है। डिपार्टमेंट ऑफ पर्सनल ऐंड ट्रेनिंग (डीओपीटी) ने नई गाइडलाइंस जारी करते हुए सभी मंत्रालयों और विभागों को जिन पदों पर नियुक्ति जरूरी है, वहां तत्काल योग्य रिटायर कर्मियों की तलाश करने को कहा है। केंद्र सरकार में अंडर सेक्रेटरी और सेक्शन ऑफिसर से रिटायर अधिकारी इन पदों पर रखे जाएंगे। इनकी नियुक्ति कंसलटेंट पद पर होगी। 3 मई को डीओपीटी की ओर से जारी गाइडलाइंस के अनुसार इन्हें एक साल के लिए पद पर रखा जाएगा। इनकी सैलेरी तय नहीं होगी और अधिकारी की योग्यता और जरूरत के अनुसार इसमें उतार-चढ़ाव हो सकता है।








भरपूर सेवा ली जाए

सूत्रों के अनुसार नियुक्ति प्रक्रिया में लंबा समय लगने और सातवें वेतन आयोग में की गई अनुशंसा के मुताबिक यह पहल की गई है। रिटायर अधिकारियों को काम पर लेने का डिटेल प्रस्ताव सातवें वेतन आयोग में ही सामने आया था। आयोग ने कहा था कि वह रिटायर कर्मचारियों की भरपूर सेवा ले। साथ ही आयोग ने एक ऐसा डेट बेस बनाने का भी सुझाव दिया था, जिसमें सभी रिटायर कर्मचारियों के बार में तमाम जानकारियां शामिल हों। इसमें उनसे संपर्क करने की जानकारी के साथ उनकी विशेषज्ञता किस बात को लेकर है, इसकी भी जानकारी रहे। इसके बाद जिस भी विभाग को उनकी जरूरत हो, वह उनकी सेवा ले सकेगा।

Category: DOPT, News

About the Author ()

Comments are closed.