Railway locomotives to detect cracks on track

| May 5, 2018

ब्रोकन रेल डिटेक्शन सिस्टम ऐसे काम करेगा, लाइन चटकने से पहले इंजन करेगा भविष्यवाणी, आस्ट्रेलिया कंपनी की बीआरडी लगाने की योजना, परीक्षण को गाजियाबाद मुरादाबाद लखनऊ रेल मार्ग का चयन

रेल लाइन चटकने या चटकने वाली है तो इसकी इंजन भविष्यवाणी करेगा। रेल प्रशासन आस्ट्रेलिया की कंपनी से ब्रोकन रेल डिटेक्शन सिस्टम (बीआरडी) मांगने जा रहा है। परीक्षण के लिए गाजियाबाद-मुरादाबाद-लखनऊरेल मार्ग का चयन किया गया है। उक्त उपकरण से फीसद तक ट्रेन दुर्घटना रोकी जा सकेंगी। रेल लाइन चटकने या टूटने के कारण ट्रेन दुर्घटनाएं बढ़ती जा रही हैं, इन्हें रोकने के लिए रेल प्रशासन द्वारा ट्रैक बदलने व मरम्मत करने का काम किया जा रहा है, उसके बाद भी रेल लाइन का चटकना और टूटना बंद नहीं हुआ है।








मुरादाबाद रेल मंडल में मार्च माह में 15 स्थानों पर रेल लाइन चटक चुकी हैं, पांच स्थानों पर टूटी हुई रेल लाइन पर ट्रेनें दौड़ी चली गईं।1 हादसों को रोकने के लिए रेलवे ने आस्ट्रेलिया से रेल लाइन चटकने की सूचना देने वाले उपकरण ब्रोकन रेल डिटेक्शन सिस्टम (बीआरडी) मंगाने की योजना बनाई है। इस उपकरण का परीक्षण गाजियाबाद मुरादाबाद लखनऊ रेल मार्ग पर किया जाएगा। वर्तमान में दो ट्रेन के इंजन में लगाकर परीक्षण किया जाएगा।




11 फीसद तक ट्रेन दुर्घटनाएं रोकी जा सकेंगीस्थानों पर मार्च में मंडल में रेल लाइन चटक चुकी हैंब्रोकन रेल डिटेक्शन सिस्टम (बीआरडी) इंजन के नीचे लगाया जाएगा। यह सिस्टम काफी संवेदनशील है। रेल लाइन कमजोर होने, चटकने, टूटने पर इंजन के गुजरने से आवाज बदल जाती है। आवाज की पहचान करने के लिए उपकरण में सेंसर व रिसीवर होगा। सेंसर मैग्नेटिक तरंग बनाएगा, जो पटरी से होकर रिसीवर तक पहुंचेगी। अगर पटरी चटकी होगी या चटकने वाली होगी तो सेंसर पटरी की आवाज में बदलाव दर्ज करेगा।




और इसकी सूचना चालक को भेजेगा। चालक इसकी सूचना तत्काल कंट्रोल रूम व अगले स्टेशन मास्टर को देगा और टूटे या चटकने वाले लाइन से ट्रेन को गुजरने से रोका जा सकेगा। उपकरण बनाने वाली कंपनी का दावा है कि फीसद तक ट्रेन दुर्घटनाओं को रोका जा सकता है। यह परीक्षण रिसर्च डिजाइन एंड स्टेंडर्ड आर्गेनाइजेशन (आरडीएसओ) की देखरेख में किया जाएगा। मंडल रेल प्रबंधक अजय कुमार सिंघल ने बताया कि बीआरडी उपकरण का परीक्षण किया जाना प्रस्तावित है, जिससे रेल लाइन चटकने से संबंधित सूचना मिलेगी।

Source:- Jagran

Category: Indian Railways, News

About the Author ()

Comments are closed.