Trackmen not to deployed as Gateman or Keyman

| April 21, 2018

 रेलवे अधिकारी अब गैंगमैन या कीमैन से गेटमैन का काम नहीं करा पाएंगे। रेलवे अधिकारियों और नरमू के बीच हुई पीएनएम की बैठक में यह निर्णय लिया गया। इस दौरान 40 मामलों का निपटारा भी किया गया। दो दिवसीय बैठक के अंतिम दिन शुक्रवार को रेल प्रशासन ने कई अहम फैसले लिए। नरमू ने मुद्दा उठाया था कि रेलवे अधिकारी नियम के विरुद्ध गैंगमैन व कीमैन से गेटमैन की ड्यूटी करा रहे हैं। ट्रेनिंग न मिलने से गैंगमैन व कीमैन गेट खोलने व गेट से सुरक्षित ट्रेनों को पार कराने का काम नहीं कर पा रहे हैं। इलाज कराने केंद्रीय अस्पताल दिल्ली जाने पर मेडिकल कार्ड न होने से परेशानी की बात कही गई।








इस पर शिविर लगाकर मेडिकल कार्ड बनाने का आश्वासन दिया गया। रेल प्रबंधन ने वेतन अनुभाग को कंप्यूटराइज्ड करने, कर्मचारी ड्यूटी चार्ट में सुधार करने, ओवरटाइम का बकाया राशि का भुगतान करने, ड्यूटी पर आने वाले टीटीई को बैठने की व्यवस्था करने, लुधियाना के रनिंग रूम को ठीक कराने का आश्वासन दिया। डीआरएम आफिस के कैंटीन को दस दिन में पुराने कैंटीन में शिफ्ट करने का फैसला लिया गया।1सीनियर डीपीओ राजीव भटनागर, सीनियर डीएफएम वीर सिंह यादव समेत सभी ब्रांच अधिकारी और नरमू के केंद्रीय उपाध्यक्ष प्रवीना सिंह, मंडल अध्यक्ष रोहित कुमार बाली, मंडल मंत्री राजेश चौबे, सुहैल खालिद, शिवराज सिंह, सुनील शर्मा, प्रदीप कौर, एके शुक्ला, पीएस नेगी उपस्थित थे।




युवा रेल कर्मियों को दिया जाएगा विशेष प्रशिक्षण:-  ट्रेन संचालन से जुड़े पूरी दुनिया के रेल कर्मियों को ट्रेड यूनियन, आंदोलन आदि चलाने का विशेष प्रशिक्षण दिया जाएगा। इंटरनेशनल ट्रांसपोर्ट फेडरेशन नवंबर में सिंगापुर में प्रशिक्षण शिविर लगाने जा रहा है। इसमें शामिल होने के लिए मुरादाबाद रेल मंडल से भी पांच युवा रेल कर्मी जाएंगे। कई देशों में रेल और सरकारी बसों को निजी कंपनियों के हाथों में सौंपने की तैयारी है। इससे विश्व के 122 देशों में सफर करना काफी महंगा हो जाएगा। इसे लेकर इंटरनेशनल ट्रांसपोर्ट फेडरेशन खासा चिंतित है। इसके मद्देनजर युवा रेल कर्मियों को विशेष प्रशिक्षण देने के लिए सिंगापुर में शिविर लगाया जाएगा। इसमें 35 साल से कम उम्र के रेल कर्मियों को बुलाकर उन्हें ट्रेड यूनियन और आंदोलन चलाने का विशेष प्रशिक्षण दिया जाएगा।




प्रशिक्षित कर्मी 25 साल तक ट्रेड यूनियन से जुड़े रहेंगे। वे रेलवे व बस सेवा को निजी हाथों में जाने से रोकने लिए आम लोगों को जागरूक करेंगे। नरमू के मंडल मंत्री राजेश चौबे ने बताया कि नरमू मंडल के विभिन्न स्थानों से पांच युवा रेल कर्मियों का चयन कर रहा है। पासपोर्ट और आवेदन मांगे गए हैं। इसे मुख्यालय के माध्यम से इंटरनेशनल ट्रांसपोर्ट फेडरेशन को भेजा जाएगा। फेडरेशन चयनित युवा रेल कर्मियों को शिविर में भाग लेने की अनुमति देगा।

मालगाड़ी चालक को गिरफ्तार करने का आदेश देने वाले मंडल परिचालक प्रबंधक को मुख्यालय में बुलाकर पूछताछ किया है। दूसरी ओर डीआरएम ने स्पष्टीकरण मांगा है। यह मामला तूल पकड़ना शुरू हो गया है। गुरुवार को बरेली कैंट यार्ड में खड़ी ट्रेन को चालक आरके श्रीवास्तव ने चलाने से इंकार कर दिया था। चालक का कहना था कि वह लगातार दस घंटे से ट्रेन चला रहा है, रेलवे बोर्ड के आदेश के अनुसार आठ घंटे से अधिक किसी चालक से ट्रेन नहीं चलावाएं। बरेली कैंट यार्ड में खड़ी मालगाड़ी के कारण बरेली व शाहजहांपुर रेल मार्ग बंद हो गया था। आरोप है कि मंडल परिचालन प्रबंधक चेतन तनेजा ने आरपीएफ बरेली कैंट को चालक आरके श्रीवास्तव को गिरफ्तार करने का आदेश दिया था। इस आदेश के विरोध में डीआरएम आफिस में उपस्थित अन्य चालकों व नरमू नेताओं ने सीनियर डीओएम के कक्ष के बाहर प्रदर्शन करना शुरू कर दिया था।

सीनियर डीओएम पुष्पराज ने घटना के लिए खेद प्रकट किया और मामला को शांत कराया था। नरमू ने इस मामले को लेकर शांत नहीं हुए। मंडल मंत्री राजेश चौबे ने इसकी सूचना संगठन के महामंत्री और रेलवे अधिकारियों को दिया। मुख्य परिचालक प्रबंधक उत्तर रेलवे ने घटना को गंभीरता से लिया और शुक्रवार को डीओएम चेतन तनेजा को दिल्ली बुलाकर पूछताछ किया। मंडल रेल प्रबंधक अजय कुमार सिंघल ने बताया कि उक्त घटना को लेकर डीओएम चेतन तनेजा से स्पष्टीकरण मांगा है। साथ ही अन्य अधिकारियों को आदेश दिया है कि नियम विरुद्ध चालक ने ट्रेन नहीं चलाए।’>>सीएमओ ने मुख्यालय बुलाकर की गई पूछताछ 1’>>मालगाड़ी चालक को गिरफ्तार कराने का आदेश देने का प्रकरण

Category: Indian Railways, News

About the Author ()

Comments are closed.